Latest Post

नई दिल्ली
दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में शनिवार शाम भीषण आग लग गई। आग शाम करीब पांच बजे इमर्जेंसी वॉर्ड के पास टीचिंग ब्लॉक की पहली और दूसरी मंजिल पर लगी।  दमकल की 34 गाड़ियां मौके पर आग बुझाने की कोशिश की।  बीच में आग पर काबू पा लिया गया था, लेकिन वह दोबारा भड़क गई और ऊपर के मंजिलों को भी चपेट में ले लिया। करीब पांच  घंटों से आग बुझाने की कोशिशें हो रही थीं, खबर लिखे जाने तक दमकल विभाग की लगभग दो दर्जन गाड़ियां आग पर काबू पाने का प्रयास कर रही थीं, जबकि आग पांचवीं मंजिल तक पहुंच  गई है।  एहतियात के तौर पर इमर्जेंसी वार्ड को बंद कर दिया गया है। यहां से मरीजों को शिफ्ट कर दिया गया है। नजदीक के ्रक्च विंग में भर्ती मरीजों को अस्थायी तौर पर दूसरे विंगों में शिफ्ट किया गया है। कुछ अन्य ब्लॉक से भी मरीजों को शिफ्ट किया गया। राहत की बात यह है कि किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। आग की वजह शॉर्ट सर्किट को बताया जा रहा है।  शॉर्ट सर्किट की वजह से पहली और दूसरी मंजिल पर आग भड़क गई। बाद में एसी के कंप्रेशर में ब्लास्ट होने की वजह से 5वें फ्लोर पर भी ऊंची-ऊंची लपटे उठने लगीं। आग लगते ही अस्पताल  में अफरा-तफरी मच गई।  हर तरफ धुआं फैल गया। आग टीचिंग ब्लॉक में लगी और यह शाम के समय यह खाली था। यहां कई लैŽस और प्रोफेसर्स की केबिन हैं।

नई दिल्ली
 दूरदर्शन की मशहूर ऐंकर नीलम शर्मा का निधन हो गया है।  दूरदर्शन ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर नीलम के निधन की सूचना दी है। नीलम दूरदर्शन का एक जानामाना चेहरा थीं।  नीलम के निधन पर दूरदर्शन ने शोक जताया है। बताया जा रहा है कि नीलम शर्मा कैंसर से पीड़ित थीं। शाम छह बजे निगम बोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार होगा। वह पिछले 20 वर्षों से  दूरदर्शन से जुड़ी हुई थीं। नीलम को मार्च में ही 'नारी शक्ति' सम्मान मिला था। नीलम को इसके अलावा भी कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा  चुका था। नीलम ने अपने 20 साल  के  करियर में 'तेजस्विनी' से  लेकर 'बड़ी चर्चा' जैसे कई लोकप्रिय कार्यक्रमों का संचालन किया। नीलम ने 1995 में दूरदर्शन से करियर की शुरुआत की थी। 

मुंबई
घरेलू हिंसा का शिकार होने और बेटी को प्रताड़ित करने का दावा कर अपने पति के खिलाफ पुलिस स्टेशन में शिकयत दर्ज  कराने वाली टीवी इंडस्ट्री की मशहूर अदाकारा श्वेता तिवारी मामले में अब उनके पति अभिनव कोहली का बयान सामने आया है। अभिनव ने पत्रकारों से बात करते हुए वह अब  ठीक है और इन सब मामले से उबरने की कोशिश कर रहे हैं। आपको बता दें कि पुलिस ने इस मामले में अभिनव कि गिरफ्तार भी किया था, लेकिन बाद में उन्हें बेल भी मिल  गई।

क्या कहा अभिनव ने?
एक फिल्म की स्क्रीनिंग पर पहुंचे अभिनव से जब पत्रकारों ने बात की तो उन्होंने अधिक कुछ नहीं बताया लेकिन उन्होंने यह कहा कि जब वह जेल में बंद थे तो उनसे मिलने श्वेता  आई थीं। उन्होंने कहा कि यह उनका पारिवारिक मामला है। नॉर्मल जिंदगी बिताने के सवाल पर अभिनव का कहना था कि मैं जिंदगी में वापस जरूर आ गया हूं लेकिन सब कुछ  पहले की तरह होने में समय लगेगा। यहीं है जब पत्रकार ने उनसे श्वेता तिवारी से मिलने के बारे में सवाल किया तो उन्होंने कहा कि हां, मैं उनसे मिला था।आपको बता दें कि श्वेता तिवारी ने अभिनव पर आरोप लगाया था कि अभिनव उनकी बेटी पलक के साथ अभद्रता करता है। पलक श्वेता तिवारी के पहले पति राजा चौधरी की बेटी हैं। राजा और श्वेता   के बीच साल 2008 में तलाक हो गया था जिसके बाद श्वेता ने साल 2013 में अभिनव कोहली से शादी कर ली थी।

नई दिल्ली
शनिवार को खेल पुरस्कारों की घोषणा की गई। पैराओलंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट दीपा मलिक और एशियन गे स और कॉमनवेल्थ गे स में गोल्ड   मेडल जीतने वाले पहलवान बजरंग पूनिया को देश में खेल के सबसे बड़े पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया जाएगा। शनिवार को अवॉर्ड समिति द्वारा इसके घोषणा  की गई। न्यायमूर्ति (सेवानिवृत) मुकुंदकम शर्मा की अगुआई वाली समिति ने विश्व में 65 किग्रा में नंबर एक पूनिया को शुक्रवार को ही खेल रत्न के लिए चुन लिया था। छह बार  की विश्व चैंपियन और ओलंपिक ब्रांज मेडलिस्ट एमसी मेरीकोम ने हितों के टकराव से बचने के लिए बैठक में हिस्सा नहीं लिया। उनके निजी कोच छोटेलाल यादव द्रोणाचार्य पुरस्कार  की दौड़ में शामिल थे। वहीं बजरंग पूनिया ने बीते साल यह अवॉर्ड नहीं मिलने पर अदालत जाने की धमकी दी थी। बजरंग ने पिछले साल जकार्ता एशियाई खेलों में 65 किग्रा स्पर्धा  में गोल्ड मेडल जीता था। उन्होंने गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गे स में भी इसी वजन वर्ग में पहला स्थान हासिल किया था। वह विश्व चैंपियनशिप में दो बार के पदकधारी हैं और अगले  साल तोख्यो ओलंपिक में भारत के लिए प्रबल दावेदारों में शामिल हैं। बजरंग ने 2013 विश्व चैंपियनशिप की 60 किग्रा स्पर्धा में ब्रांज मेडल जीता था और इस प्रदर्शन में सुधार  करते हुए पिछले साल 65 किग्रा में सिल्वर मेडल अपने नाम किया। अर्जुन पुरस्कारों की बात करें तो क्रिकेटर रविंद्र जडेजा और पूनम यादव सहित 19 अन्य खिलाड़ियों को इस  पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इसके साथ ही बैडमिंटन कोच विमल कुमार, टेबल टेनिस कोच संदीप गुप्ता और एथलेटिक्स कोच मोहिंदर सिंह ढिल्लों को द्रोणाचार्य पुरस्कार से   सम्मानित किया गया है। हॉकी के मेजबान पटेल, रामबीर सिंह खोखर (कबड्डी) और क्रिकेट के संजय भारद्वाज को लाइफ टाइम कैटेगिरी में सम्मानित किया गया।

भोपाल
अभी जमैका के उसेन बोल्ट के रिकॉर्ड से 1.02 सेकंड पीछे हैं, लेकिन वे वर्तमान में बिना किसी प्रशिक्षण के 11 सेकंड में 100 मीटर की फर्राटा दूरी तय कर रहे हैं। इनका एक  वीडियो वायरल हुआ है, जिसे राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने भी आगे बढ़ाया है। चौहान ने ट्वीट कर कहा है कि भारत ऐसी प्रतिभाओं का धनी है। यदि इन्हें सही   अवसर और सही प्लेटफॉर्म मिले तो ए लोग नया इतिहास रचते हुए दिखाई देंगे। जब इस वीडियो को चौहान ने आगे बढ़ाया तो तो केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू ने भी इसे  हाथोंहाथ लिया।रिजिजू ने ट्वीट कर कहा कि शिवराजजी किसी को कहिए कि वह रामेश्वर को मेरे पास लेकर आए। मैं उन्हें ऐथलेटिक अकादमी में रखने के लिए पूरा इंतजाम  करूंगा।शिवपुरी के रामेश्वर के बारे में दावा किया जा रहा है कि मात्र 11 सेकंड के इस वीडियो में रामेश्वर अपने स्टार्टिंग पॉइंट से 100 मीटर दौड़ की फिनिशिंग लाइन को आराम से  पार करता दिख रहा है। वीडियो में दिखाई दे रहा है कि वह नंगे पांव दौड़ रहा है। रामेश्वर ने कहा कि मैं पिछले 4-5 साल से दौड़ की तैयारी कर रहा हूं और अपने देश के लिए  पदक जीतना चाहता हूं। गुर्जर ने बताया कि मुझे अच्छे ट्रेनिंग और सुविधाएं प्रदान करने का आश्वासन दिया गया है। मैं पूरी मेहनत करूंगा और सरकार को निराश नहीं करूंगा।  उल्लेखनीय है कि 100 मीटर में सबसे तेज दौड़ने का रिकॉर्ड ओलंपिक विजेता उसेन बोल्ट (9.58 सेकंड) के नाम है, जबकि महिला वर्ग में यह रिकॉर्ड फ्लोरेंस ग्रिफिथ के नाम से है,  जिन्होंने 10.49 सेकंड में अपनी दौड़ पूरी कर स्वर्ण पदक जीता था।

कूलिज (एंटिगा)
भारतीय टीम के दोबारा कोच बने रवि शास्त्री ने कहा कि उनकी कोशिश बदलाव के दौर से गुजर रही टीम को बेहतर बनाने की होगी। उन्होंने कहा कि इस दौरान टीम प्रयोग करने   से पीछे नहीं हटेगी। शास्त्री को शुक्रवार को कपिल देव की अगुआई वाली क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने दूसरी बार टीम के मुख्य कोच के लिए चुना। शास्त्री की उम्र 57 साल   है और बीसीसीआई संविधान के मुताबिक राष्ट्रीय टीम के कोच की उम्र 60 साल से कम होनी चाहिए। ऐसे में शास्त्री के पास टीम के साथ यह आखिरी मौका होगा। 2023 विश्व कप  में अभी काफी समय है और 2021 टी-20 विश्व कप जीतना टीम के लिए आशावादी लक्ष्य हो सकता है। शास्त्री ने कहा कि अगले दो साल हमें यह देखना होगा कि बदलाव का दौर  ठीक से गुजरे ख्योंकि टीम में कई युवा खिलाड़ी आएंगे खासकर एकदिवसीय प्रारूप में, इसके साथ टेस्ट टीम में भी कुछ युवा आएंगे। भारतीय टीम के इस पूर्व हरफनमौला ने कहा  कि आपको तीन-चार गेंदबाजों की पहचान करनी होगी ताकि उन्हें पूल में जोड़ा जा सके, यह एक चुनौती है। मैं चाहूंगा कि 26 महीने के अपने कार्यकाल के बाद ऐसी विरासत  छोड़कर जाऊं जहां टीम खुश रहे। वह ऐसी विरासत छोड़ना चाहते है, जहां जिसका अनुसरण करना भविष्य के खिलाड़ियों के लिए मुश्किल होगा। उन्होंने कहा कि मुझे उख्मीद है कि  आने वाले वर्षों में यह टीम ऐसी विरासत बनाएगी जो काफी कम टीमों ने किया होगा। सिर्फ मौजूदा खेल के समय नहीं बल्कि खेल के बाद भी। भारतीय कोच ने कहा कि हम सब  की ऐसी चाहत है और हम उसमें आगे बढ़ रहे हैं। सुधार की हमेशा गुंजाइश रहती है। टीम में जिस तरह के युवा आ रहे हैं मुझे लगता है कि आने वाला समय काफी रोचक होने  वाला है। जब आप सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश करते हैं, तो आप हर दिन अपना स्तर ऊंचा करने की कोशिश करते हैं और आपको सभी बारीकियों पर ध्यान देना होता है। जब आप  अच्छा नहीं करते हैं तब आपको उस बाधा को पार करने के ध्यान देना होता है। कोच के लिए साक्षात्कार से पहले ही कप्तान विराट कोहली ने खुलकर शास्त्री की  तरफदारी की थी। उन्होंने भारत में 2021 में होने वाले टी-20 विश्व कप तक (लगभग दो साल) के लिए कोच नियुक्त किया गया है। शास्त्री ने पिछले दो साल के प्रदर्शन का आकलन करते हुए उसे  शानदार बताया। उन्होंने कहा कि पिछले दो-तीन साल टीम ने शानदार तरीके से निरंतर प्रदर्शन किया। लेकिन जैसा की मैंने कहा है उन्होंने एक स्तर बना लिया है और अब उस  स्तर से ऊपर उठना होगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए कोई दूसरा तरीका नहीं है आपको पूरी कोशिश करनी होगी। इस कोशिश में कई बार नतीजे आपके अनुकूल नहीं होंगे, कई बार  आपको नहीं पता होता है कि सर्वश्रेष्ठ टीम संयोजन क्या होगा। ऐसा भी समय होगा जब आप युवाओं को मौका देंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि टीम संयोजन सही बने, आपको   हर चीज में सुधार करना होगा। शास्त्री ने मौजूदा टीम की क्षेत्ररक्षण में सुधार पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि पिछले चार-पांच वर्षों में इस टीम में सबसे अच्छी बात क्षेत्ररक्षण में सुधार है और हमारी कोशिश इसे सर्वश्रेष्ठ क्षेत्ररक्षण टीम बनाने की है।

एंटीगा
भारत के खिलाफ टी-20 और वनडे सीरीज गंवाने के बाद वेस्टइंडीज की नजर अब टेस्ट सीरीज पर है। मेजबान टीम अब टेस्ट सीरीज जीतकर अपनी इज्जत बचाने की कोशिश में  है, लेकिन दुनिया कि नंबर एक टीम के खिलाफ ये आसान नहीं होगा। वेस्टइंडीज का टेस्ट सीरीज में भी बुरा हाल ना हो जाए इसके लिए बोर्ड ने दो पूर्व खिलाड़ियों को एक अहम  जिम्मेदारी सौंपी गई है। टीम के दो पूर्व खिलाड़ी ब्रायन लारा और रारनरेश सरवन टेस्ट सीरीज के लिए कैरेबियाई खिलाड़ियों को तैयार करेंगे जिससे कि वो भारत के खिलाफ अच्छा  प्रदर्शन कर सकें। लारा और रामनरेश सरवन पहले टेस्ट मैच यानी एंटीगा में खेले जाने वाले पहले मैच से पहले लगने वाले कैंप मं वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों को बल्लेबाजी का गुर  सिखाएंगे। आपको बता दें कि लारा और सरवन अपने-अपने वक्त में कमाल के बल्लेबाज रह चुके हैं। भारत और वेस्टइंडीज के बीच दो टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला 22-  26 अगस्त तक जबकि दूसरा मैच 30 अगस्त से तीन सितंबर तक खेला जाएगा। दूसरा टेस्ट मैच जमैका में खेला जाएगा। जेसन होल्डर की कप्तानी में वेस्टइंडीज को लगातार दो   सीरीज में हार मिली थी। उनकी कोशिश तो ये जरूर होगी कि वो टेस्ट सीरीज ना गंवा दें।
भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली अगर वेस्टइंडीज को टेस्ट सीरीज में भी रहा देते हैं तो वो पहले ऐसे कप्तान बन जाएंगे जिसकी अगुआई में टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज को  क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में उसकी ही धरती पर एक ही दौरे में हराया। वैसे भी कप्तान विराट कमाल की फॉर्म में हैं और उन्होंने तीन मैचों की वनडे सीरीज के आखिरी दो मैचों में  लगातार शतक लगाया था।

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget