NSG पर फिर होगी बैठक

नई दिल्ली। एनएसजी (परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह) में शामिल होने की भारत की कोशिशों पर चीन के कुंडली मार कर बैठे होने के बावजूद कुछ सकारात्मक संकेत मिले हैं। इस साल के आखिर तक एनएसजी की एक खास बैठक आयोजित की जा सकती है। इसमें एनपीटी (परमाणु अप्रसार संधि) पर साइन नहीं करने वाले भारत जैसे देशों को समूह में दाखिला देने पर चर्चा होगी। इतना ही नहीं, एनएसजी ने भारत की सदस्यता पर अनऔपचारिक चर्चा के लिए एक पैनल भी बनाया है। अर्जेंटीना के राजदूत राफेल ग्रोसी इसके अध्यक्ष होंगे। दक्षिण कोरिया की राजधानी सोल में शुक्रवार को 48 देशों वाले इस समूह की अहम बैठक में सदस्यता के लिए भारत की दावेदारी पर कोई फैसला नहीं हो पाया। 
चीन ने भारत की दावेदारी का इस आधार पर विरोध किया है कि चूंकि उसने एनपीटी पर साइन नहीं किया है, इसलिए उसे इस क्लब में शामिल नहीं किया जाना चाहिए, लेकिन अब राजनयिक सूत्रों ने बताया है कि मै िसको के सुझाव पर इस साल के अंत तक एनएसजी की एक और बैठक होगी। इस बैठक में एनपीटी पर साइन नहीं करने वाले भारत जैसे देशों को भी समूह में शामिल करने पर फिर से विचार किया जाएगा। एनएसजी के नियमों  के मुताबिक, वैसे तो समूह की अगली बैठक अगले साल होती, लेकिन अब इस साल के अंत में ही इसकी एक बैठक होगी। सूत्रों ने यह भी बताया कि चीन ने मैक्सिको के इस सुझाव का भी विरोध किया, लेकिन अमेरिका समेत कई अन्य देशों ने इसका समर्थन किया। इससे पहले भारत की एंट्री की उम्मीदों पर चीन द्वारा पानी फेरने के बाद अमेरिका ने एक तरह से भारत को  दिलासा दिया है। उसका कहना है कि इस मामले में आगे का एक रास्ता है और भारत इस साल के आखिर तक एनएसजी का पूर्ण सदस्य बन सकता है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget