आतंकी वारदात को अंजाम देने की फिराक में जेईएम

नई दिल्ली
बांग्लादेश की इस्लामिक कट्टरवादी संगठन जमात-उल-मुजाहिद्दीन (जेईएम) के आतंकी साजिस को एनआईए ने नाकाम कर दिया है। एनआईए ने आतंकी वारदात को अंजाम देने के  फिराक में जेईएम के सदस्यों को गिरफ्तार किया है। पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार हुए सज्जाद नामक आरोपी के कŽजे से भारी तादाद में आईईडी बनाने वाला सामान बरामद किया  गया है। इस गिरफ्तारी के बाद एनआईए ने यह भी दावा किया है कि जेईएम भारत में बड़े पैमाने पर हमले के फिराक में है। उ€त युवक भारत में बड़े आतंकी हमले करने की  साजिश रच रहा था, लेकिन एनआईए ने उसकी साजिश को नाकाम कर दिया। खुफिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अपनी इस साजिश को अंजाम देने के लिए जेइएम ने पश्चिम बंगाल में मौजूद अपने गुर्गों को सक्रिय किया है। जेइएम की इस साजिश का खुलासा एनआईए ने कादर काजी और सज्जाद अली नामक दो आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद किया। दोनों आरोपियों को एनआईए ने आरामबाद (पश्चिम बंगाल) इलाके से गिरफ्तार किया है। एनआईए के अनुसार, गिरफ्तार किए गए सज्जाद अली नामक आरोपी के कŽब्जे से एनआईए ने बैटरी, वायर, इले€क्ट्रिक सर्किट, इलेक्ट्रॉनिक €लाक और घडिय़ां बरामद की है। बरामद किए गए सभी सामान का इस्तेमाल आतंकी हमले के लिए आईईडी बनाने के लिए  किया जाना था। आईईडी बनाने के लिए दोनों आरोपियों ने पश्चिम बंगाल के आरामबाग इलाके में स्थिति एक निर्माणाधीन तीन मंजिला इमारत को अपना ठिकाना बना रखा था।  इसी ठिकाने से दोनों को एनआईए ने गिरफ्तार किया है। एनआईए के अनुसार 32 वर्षीय कादर काजी मूल रूप से पश्चिम बंगाल के वीरभूमि इलाके का रहने वाला है। सुरक्षा एजेंसियों की गिरफ्त से बचने के लिए वह कभी मिजानुर रहमान बन जाता था, तो कभी अपनी पहचान हानुर मंडल बताता था। एनआईए ने बर्दवान Žब्लास्ट केस में कादर काजी की सीधी संलिप्तता पाई थी। जिसके बाद उसे बर्दवान Žब्लास्ट केस में नामजद किया गया था। लंबे समय से गिरफ्तारी से बच रहे कादर काजी पर एनआईए ने 5 लाख रुपए का ईनाम  भी घोषित किया था।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget