21 अयोग्य नगरसेवकों पर अब तक कार्रवाई नही

- मुंबई
एक आरटीआई के जवाब में खुलासा हुआ है कि बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) के अयोग्य घोषित 21 पार्षदों के खिलाफ  अब तक कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई है। बीएमसी के 21 पार्षद 2007 से अयोग्य घोषित किए गए हैं और इनमें से ज्यादातर ने  फर्जी जाति प्रमाणपत्र सौंपे थे, लेकिन अब तक इनके खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं हुआ है। शहर के कार्यकर्ता अनिल गलगली ने  नगर निकाय के समक्ष सूचना का अधिकार (आरटीआई) आवेदन दाखिल करके अयोग्य पार्षदों के खिलाफ की गई कार्रवाई के बारे में जानकारी मांगी थी।
बीएमसी के विधि विभाग के अधिकारी एसडी फलसंगे ने हाल में दिए अपने जवाब में कहा कि उन्हें अयोग्य ठहराये जाने के बाद  से किसी भी पार्षद के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि विभाग चुनाव याचिकाओं को अल्पवाद न्यायालयों  (स्मॉल कॉज कोर्ट) में भेज देता है। चुनाव विभाग ने कहा कि 21 पार्षदों में से ज्यादातर को फर्जी जाति प्रमाण पत्र सौंपने के लिए अयोग्य ठहराया गया था, जबकि उनमें से एक को दो बच्चों के नियम का उल्लंघन करने के लिए अयोग्य ठहराया गया था। ये  पार्षद 2007, 2012 और 2017 के निकाय चुनावों में निर्वाचित हुए थे। स्मॉल कॉज कोर्ट के उप विधि अधिकारी अनंत कजरोलकर  ने एक अलग जवाब में कहा कि अयोग्य ठहराये गए किसी भी पार्षद के खिलाफ अब तक कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget