दीदी का सियासी धरना खत्म

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपना धरना खत्म कर लिया है। ममता ने कहा कि लोकतंत्र और संविधान बचाने का हमारा प्रयास सफल रहा। इस मौके पर आंध्र  प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू भी मौजूद थे। ममता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को सकारात्मक फैसला किया है और इस मामले को लेकर हम अगले सप्ताह दिल्ली जाएंगे। ममता बनर्जी ने सीबीआई कोलकाता पुलिस आयुक्त मामले में मंगलवार को आए उच्चतम न्यायालय के आदेश को अपनी 'नैतिक जीत' बताया, जिसमें जांच के दौरान  कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार की गिरफ्तारी समेत कोई भी दंडात्मक कार्रवाई नहीं करने का निर्देश दिया गया है।
सुप्रीम कोर्ट ने सारदा चिटफंड घोटाले में पूछताछ के लिए कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होने का आदेश दिया है। शीर्ष् अदालत ने साथ ही यह  साफ किया राजीव की फिलहाल गिरफ्तारी नहीं होगी। कोर्ट ने राजीव को बंगाल से बाहर शिलांग में सीबीआई के सामने पेश होने को कहा है।
बता दें कि बंगाल की सीएम ममता सीबीआई के खिलाफ तीन दिन से धरने पर बैठी हुई थीं। सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश से उनको झटका लगा है। अदालत ने साथ ही राज्य के मुख्य सचिव, डीजीपी और कोलकाता पुलिस कमिश्नर को सीबीआई की मानहानि याचिका पर नोटिस जारी किया है। मामले की अगली सुनवाई 20 फरवरी को होगी। अटॉर्नी जनरल ने कहा  कि एसआईटी द्वारा सबूतों के साथ छेड़छाड़ बहस के दौरान सीबीआई की तरफ से पेश अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने कहा कि एसआईटी ने सबूतों के साथ छेड़छाड़ की और  मामले की सही तरीके से जांच नहीं की। उन्होंने कहा कि बंगाल में संवैधानिक संस्थाएं चरमरा गई हैं। वेणुगोपाल ने कहा कि एसआईटी डेटा और लैपटॉप को सुरक्षित नहीं रख पाई।  एसआईटी ने सीबीआई को गलत कॉल्स डेटा दिया था। बंगाल सरकार की तरफ से पेश वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि सीबीआई कोलकाता पुलिस कमिश्नर को  परेशान करना चाहती है।
उन्होंने कहा कि सीबीआई अफसरों को परेशान कर रही है। इस पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि राजीव कुमार को पूछताछ में क्या दिक्कत है। चीफ जस्टिस ने कहा कि आखिर कमिश्नर सीबीआई के सामने पेश क्यों नहीं हो रहे हैंक् चीफ जस्टिस ने पूछा कि पश्चिम बंगाल सरकार को हमारे जांच के आदेश से किस तरह की दिक्कत है। चीफ जस्टिस  के नेतृत्व वाली बेंच ने कहा कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर को जांच में शामिल होने का आदेश देने में दिक्कत नहीं है। शीर्ष् अदालत ने कहा कि वह मानहानि की याचिका मामले में  राज्य के मुख्य सचिव, डीजीपी और राजीव कुमार को नोटिस देगी।कोर्ट ने आदेश दिया कि राजीव कुमार को मेघालय की राजधानी शिलांग में सीबीआई के सामने पेश होना होगा। इससे पहले सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि सीबीआई कोलकाता पुलिस कमिश्नर के खिलाफ सबूत लाकर दे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि यदि राजीव कुमार यदि सबूतों को मिटाने की कोशिश कर रहे हैं तो सीबीआई उनके खिलाफ सबूत लाकर दे, हम उनके खिलाफ ऐसी कार्रवाई करेंगे कि वह पछताएंगे।इस बीच  कलकत्ता हाईकोर्ट ने कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार से जुड़ा मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचने के कारण इसकी सुनवाई गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी है।
बता दें कि कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार सीबीआई पूछताछ के खिलाफ कलकत्ता हाईकोर्ट गए थे। उन्होंने हाईकोर्ट से सीबीआई पूछताछ से अंतरिम राहत मांगी थी।  कलकत्ता हाईकोर्ट राजीव कुमार की याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है और इस मामले में मंगलवार को सुनवाई की तारीख दी थी। सीबीआई की 40 अधिकारियों की एक  टीम कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमारसे चिटफंड घोटाले के सिलसिले में पूछताछ करने के लिए रविवार को उनके आवास पर गई थी, लेकिन टीम को उनसे मिलने की  अनुमति नहीं दी गई और उन्हें जीप में भरकर थाने ले जाया गया। टीम को थोड़े समय के लिए हिरासत में भी रखा गया।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget