आरएसएस सर्वाधिक धर्मनिरपेक्ष और समावेशी संगठन : राज्यपाल

महाराष्ट्र के राज्यपाल सी. विद्यासागर राव ने मंगलवार को कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) सबसे धर्मनिरपेक्ष और समावेशी संगठनों में से एक है, क्योंकि इसने हर व्यक्ति के मत और धर्म के पालन के अधिकार का हमेशा सम्मान किया है। नागपुर के रामटेक में कविकुलगुरु कालिदास संस्कृत विश्वविद्यालय (केकेएसवी) में आरएसएस के  दिवंगत सरसंघचालक गोलवलकर गुरुजी के नाम पर नए अकादमिक परिसर और गुरुकुलम के शुभारंभ के दौरान राज्यपाल ने कहा कि संघ की यात्रा शानदार और कठिन रही है।  गुरुजी के नाम से प्रख्यात एमएस गोलवलकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दूसरे सरसंघचालक थे। राव ने कहा, संघ के रूप में डॉ. केबी हेडगेवार द्वारा लगाया गया पौधा वटवृक्ष बन  गया है, जिसकी शाखाएं पूरी दुनिया में हैं। आरएसएस की यात्रा शानदार और कठिन रही है। संघ के सामने सबसे बड़ी चुनौती महात्मा गांधी की हत्या के बाद पैदा हुई थी, जब चार फरवरी 1948 को इस पर सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया था। राव ने कहा कि गोलवलकर ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की और जेल से ही राष्ट्रव्यापी सत्याग्रह का आह्वान किया।  उन्होंने कहा, गुरुजी ने सरकार को आरएसएस के खिलाफ लगाए गए आरोपों को साबित करने की चुनौती दी या प्रतिबंध हटाने का अनुरोध किया। आखिरकार, गोलवलकर के निरंतर प्रयासों के कारण 12 जुलाई 1949 को पाबंदी खत्म हुई। उन्होंने आगे कहा, संघ के प्रतिद्वंद्वी जैसा कहते हैं, उसके विपरीत आरएसएस सर्वाधिक धर्मनिरपेक्ष और समावेशी संगठनों  में से एक है। आरएसएस ने हर व्यक्ति के मत और धर्म के पालन के अधिकार का हमेशा सम्मान किया है। राज्यपाल ने कहा कि आरएसएस सुबह की अपनी प्रार्थना में देश के  विभिन्न भागों के संतों, समाज सुधारकों और देशभक्तों को याद करता है, यह संघ के 'समावेशी’ दृष्टिकोण को दिखाता है। उन्होंने कहा कि 'विश्व गुरु’ का अपना वैभव फिर से पाने के लिए हमें ऐसी शिक्षा व्यवस्था की जरूरत है, जो भारतीय हो और जो पूछताछ, नवाचार और उद्यमशीलता की भावना को बढ़ावा दे।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget