जान बचाअने के लिये आतंकी आकाओं में गठबंधन

नई दिल्ली
पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमले के बाद आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर और हिज्बुल मुजाहिद्दीन के आका सैयद सलाउद्दीन की दो बार मुलाकात हो चुकी है। इंटेलिजेंस सूत्रों के मुताबिक, दोनों बार पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद के आसपास मीटिंग हुई। माना जा रहा है कि इस दौरान दोनों ने अपने मंसूबों  को अंजाम देने के लिए आगे की रणनीति पर चर्चा की है। पुलवामा अटैक के बाद पाकिस्तानी इंटेलिजेंस एजेंसी ने मसूद अजहर को सुरक्षित जगह पर शिफ्ट भी कर दिया है।
सूत्रों के मुताबिक, ये बैठकें 16 और 21 फरवरी को हुई हैं। भारतीय सेना ने ऑपरेशन 'ऑल आउट’ में दोनों आतंकी संगठनों के कई कमांडरों को मार गिराया है। इसके बाद से दोनों  ग्रूप अपने मंसूबों को अंजाम देने के लिए संसाधन साझा कर रहे हैं। पहले इन दोनों संगठनों के इलाके लगभग बंटे हुए थे। हिज्बुल ज्यादातर दक्षिण कश्मीर पर फोकस करता रहा  है। लेकिन पिछले कुछ महीनों से उसने खुद को उत्तरी कश्मीर में भी खड़ा करने की कोशिश शुरू की है। हिज्बुल में स्थानीय आतंकी ज्यादा होते हैं, जबकि जैश में विदेशी यानी पाकिस्तानी आतंकवादी। सूत्रों की मानें तो पाकिस्तान से ज्यादातर आतंकी उत्तरी कश्मीर से घुसपैठ करते हैं और वहीं अपना बेस बनाते हैं। हिज्बुल की कोशिश है कि वह  पाकिस्तानी आतंकियों को लोकल सपोर्ट भी मुहैया कराए। इंटेलिजेंस सूत्रों का मानना है कि दोनों आतंकी लीडर के बीच हुई इस मीटिंग में एक-दूसरे को मदद देकर फिर से मजबूत  होने की साजिश पर बात हुई होगी।
आतंक के आका को किया शिफ्ट : इंटेलिजेंस सूत्रों ने बताया कि जैश के आतंकी मसूद अजहर को पुलवामा अटैक के बाद सुरक्षित जगह पर शिफ्ट किया गया है। 17-18 फरवरी को  मसूद को रावलपिंडी से बहावलपुर के पास किसी एरिया में भेज दिया गया। पाकिस्तानी एजेंसियों को डर है कि भारत कोई कार्रवाई कर सकता है और मसूद अजहर सीधे निशाने पर  है। एलओसी के पार बने आतंकी लांच पैड को भी शिफ्ट किया गया है। उत्तरी कश्मीर के दूसरी तरफ पीओके में आतंकियों के लांच पैड नीलम वैली में थे, जिन्हें अब ज्यादा अंदर की तरफ आबादी वाले एरिया में शिफ्ट किया गया है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget