ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 32 रनों से हराया

रांची
ऑस्ट्रेलिया ने रांची में खेले गए वनडे सीरीज के तीसरे मुकाबले में भारतीय टीम को 32 रनों से हरा दिया। धोनी की होम ग्राउंड पर हुए इस मुकाबले में मेहमान टीम ने पहले बैटिंग  करते हुए निर्धारित 50 ओवरों में पांच विकेट पर 313 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा किया। जवाब में भारतीय टीम कप्तान विराट कोहली (123) के वनडे कॅरियर के 41वें शतक के  बावजूद सभी विकेट खोकर 281 रन ही बना सकी। इस हार के बाद भी भारत के पास सीरीज में 2-1 की बढ़त है। उस्मान ख्वाजा को मैन ऑफ द मैच चुना गया। इससे पहले कप्तान एरोन फिंच और उस्मान ख्वाजा के बीच पहले विकेट के लिए 193 रन की साझेदारी के बावजूद भारतीय तेज गेंदबाजों ने अंतिम ओवरों में अच्छी गेंदबाजी की और  ऑस्ट्रेलिया को 313 रन ही बनाने दिए। उस्मान ख्वाजा (113 गेंदों पर 104 रन) ने वनडे में अपना पहला शतक जमाया, जबकि फिंच ने 99 गेंदों पर 93 रन बनाकर फॉर्म में वापसी  की। ग्लेन मैक्सवेल ने भी 31 गेंदों पर 47 रन बनाकर उपयोगी योगदान दिया। मार्कस स्टोइनिस (नाबाद 31) और अलेक्स कैरी (नाबाद 21) ने छठे विकेट के लिए 50 रन की अटूट  साझेदारी की। यह ऐसा दिन था, जिसमें भारतीय स्पिनर नहीं चल पाए। रविंद्र जडेजा (दस ओवर में 64 रन, कोई विकेट नहीं) और केदार जाधव (दो ओवर में 32 रन, कोई विकेट  नहीं) ने खूब रन लुटाए। कुलदीप यादव (दस ओवर में 64 रन देकर तीन विकेट) ने हालांकि पारी के दूसरे चरण में तीन विकेट लेकर अपने गेंदबाजी विश्लेषण में सुधार किया।  ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 40 ओवर के बाद दो विकेट पर 244 रन था, लेकिन आखिरी दस ओवरों में वह केवल 69 रन ही बना पाया।
इसका श्रेय बुमरा और शमी को जाता है। भारतीय क्षेत्ररक्षण भी अच्छा नहीं रहा। शिखर धवन ने जडेजा की गेंद पर स्क्वेयर लेग पर ख्वाजा का कैच छोड़ा। तब वह 17 रन पर खेल  रहे थे। विराट कोहली, जाधव और बुमरा ने भी ढीला क्षेत्ररक्षण किया, जिससे बल्लेबाजों पर से दबाव कम हुआ। मोहम्मद शमी भी तीन ओवर करने के बाद चोटिल हो गए और उन्हें  कुछ देर के लिए मैदान छोड़ा और इससे भी बल्लेबाजों पर से दबाव कम हुआ। फिंच और ख्वाजा ने इस बीच तीनों स्पिनरों को अच्छी तरह से खेला। फिंच ने जाधव को निशाना  बनाया और अपने तीनों छक्के लॉन्ग ऑन और मिडविकेट क्षेत्र में लगाए।
विजय शंकर (आठ ओवर में 44 रन देकर कोई विकेट नहीं) ने ऐसे में अच्छी जिम्मेदारी निभायी। जडेजा भी सपाट विकेट पर प्रभावी नहीं दिखे। ख्वाजा और फिंच के बाद मैक्सवेल  ने भी स्पिनरों का सामना करने के लिए अपने फ्रंट फुट का अच्छा इस्तेमाल किया। कुलदीप ने फिंच को पगबाधा आउट करके भारत को पहली सफलता दिलायी। इसके बाद उन्होंने  अपने एक ओवर में शॉन मार्श (सात) और पीटर हैंड्सकांब (शून्य) को भी पैवेलियन भेजा। इससे पहले बड़े लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत एक बार फिर खराब  रही। उसे ओपनर शिखर धवन (1) के रूप में पहला झटका लगा। उन्हें जे. रिचर्डसन ने मैक्सवेल के हाथों कैच आउट कराया। जब आउट हुए तो भारत का स्कोर 11 रन था। स्कोर  में चार रन और जुड़े थे कि रोहित शर्मा (14) पैट कमिंस की गेंद पर एलबीडव्लयू आउट हो गए। उन्होंने 14 गेंदों में दो चौके और 1 छ का लगाया। यहां लग रहा था कि गेंद पहले  रोहित के बल्ले पर लगी है, लेकिन कंगारू खिलाड़ियों ने डीआरएस लेने का फैसला किया, जिसमें थर्ड अंपायर ने उन्हें आउट करार दिया। टीम इंडिया संभलती इससे पहले ही नए  बल्लेबाज अंबाती रायुडू (2) को पैट कमिंस ने क्लीन बोल्ड कर दिया। इसके बाद कप्तान विराट और लोकल बॉय एमएस धोनी ने 59 रनों की साझेदारी करके टीम को संभालने की  कोशिश की। धोनी दो चौके और एक छक्का लगाकर अच्छी लय में दिख रहे थे कि तभी एडम जांपा की एक करिश्माई गेंद ने उनके स्टंप्स बिखेर दिए। बोल्ड होने से पहले धोनी  ने 26 रन बनाए। वह 86 रनों के टीम स्कोर पर आउट हुए।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget