'योजनाओं के नाम पर छल करती है कांग्रेस’

नई दिल्ली
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा सरकार बनने पर गरीबों को 72 हजार रुपए सालाना देने के वादे पर वित्त मंत्री अरूण जेटली ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। जेटली ने कहा कि कांग्रेस  ने हमेशा योजनाओं के नाम पर सिर्फ छल-कपट किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का इतिहास गरीबी हटाने के नाम पर सिर्फ राजनीतिक व्यवसाय करने का रहा है। कांग्रेस ने गरीबी  हटाने के लिए कभी संसाधन भी नहीं दिए।
जेटली ने कहा कि इंदिरा गांधी ने 1971 में गरीबी हटाने के नाम पर चुनाव जीता था, लेकिन गरीबी हटाने के लिए €या जरूरी है, इस पर काम नहीं किया। उन्होंने अर्थव्यवस्था को  बेहतर करने के नाम पर कोई काम नहीं किया। उन्होंने सिर्फ गरीबी वितरण का काम किया था। नीचे के तबके लोगों को ऊपर लाने पर कोई काम नहीं हुआ, हां ऊपर के तबके को  नीचे लाकर, गरीबी का वितरण किया गया।
जेटली ने मनरेगा पर भी निशाना साधते हुए कहा कि मनरेगा में 40 हजार करोड़ रुपए साल का खर्च करने का वादा था और करते थे 28 हजार करोड़ और यह पैसा भी केंद्र से  राज्य, राज्य से जिला और इस बीच कई कड़ियों से होकर गुजरता था। गरीब को कितना पैसा मिलता था, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने विधानसभा  चुनावों में भी किसानों का कर्ज माफ करने की बात कही। कर्नाटक में इस मद में 2600 करोड़ रुपए खर्च किए, मध्य प्रदेश ने 3000 करोड़ रुपए और पंजाब ने 5000 करोड़ रुपए  खर्च किए। कांग्रेस का भरोसा सिर्फ चुनावी नारे देने का रहा है, संसाधन देने का नहीं। अरूण जेटली ने आधार कार्ड का इस्तेमाल कर डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर को लेकर भी कांग्रेस से सवाल पूछा। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी कहते हैं कि यह पैसा डीबीटी के जरिए जाएगा। ये वही कांग्रेस है, जो पहले आधार लाई, और फिर उसे संसद से सुप्रीम कोर्ट तक ले  गई। जो लोग हर जगह आधार का विरोध कर रहे थे, आज डीबीटी से पैसा देने की बात कर रहे हैं।
इससे पहले अरूण जेटली ने फेसबुक पर एक Žब्लॉग भी लिखा। उन्होंने अपने Žब्लॉग में लिखा कि पिछले सात दशकों में किसी भी राजनीतिक दल ने देश के साथ उतनी धोखेबाजी नहीं  की, जितनी कांग्रेस ने की है। उन्होंने कहा कि उन्होंने देश के लोगों को नारे तो बहुत दिए, लेकिन नारों को साकार करने के लिए संसाधन बेहद कम दिए। जेटली ने अपने Žब्लॉग का  शीर्षक €या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के गरीबों को पहले से उससे ज्यादा दे रहे हैं, जितना कांग्रेस सिर्फ वादा कर रही है? जेटली ने लिखा कि नेहरू के कार्यकाल ने देश को 3.5  प्रतिशत आर्थिक वृद्धि की तरफ धकेल दिया। जिस समय दुनिया बहुत तेजी से आगे बढ़ रही थी, उस समय हमने अपनी अर्थव्यवस्था को रेग्युलेट करने का फैसला किया।
बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने घोषणा की कि कांग्रेस की सरकार बनी, तो देश के 20 फीसदी सबसे गरीब परिवारों को हर साल 72,000 रुपए दिए जाएंगे। अपनी दादी  इंदिरा गांधी के गरीबी हटाओ की तर्ज पर उन्होंने दावा किया कि हम देश से गरीबी को मिटा देंगे। उन्होंने बताया कि न्यूनतम आय की यह योजना चरणबद्ध तरीके से लागू की  जाएगी और गरीबों के बैंक खातों में सीधे पैसा डाले जाएंगे। कांग्रेस की इस योजना को मनरेगा पार्ट-2 माना जा रहा है। राहुल गांधी ने साफ करते हुए कहा कि न्यूनतम आय सीमा  12,000 रुपए होगी और इतना पैसा देश में मौजूद है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget