जीजा-साले भ्रष्टाचार में लिप्त : स्मृति ईरानी

भाजपा ने सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और आयकर विभाग के रडार पर आए आर्म्स डीलर संजय भंडारी के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के रिश्ते होने का आरोप लगाया।  स्मृति ईरानी ने बुधवार को कहा कि मीडिया रिपोर्ट्स में सामने आया कि जीजा (रॉबर्ट वाड्रा) और साले साहब (राहुल गांधी) पारिवारिक भ्रष्टाचार में फंसे हैं। संजय भंडारी के साथ  राहुल के रिश्ते सामने आए हैं। स्मृति ने कहा कि अब राहुल खुद देश को बताएं कि उन्हें रक्षा सौदों में इतनी रुचि €यों है। कांग्रेस ने ईरानी पर पलटवार करते हुए तमाम आरोपों को झूठा बताया है।
स्मृति ने कहा कि राहुल गांधी, जो अब रॉबर्ट वाड्रा के पीछे छिप रहे हैं, वे जनता को खुद बताएं कि रक्षा सौदों में उनकी इतनी रुचि €यों है। वो बताएं कि €या चंद रुपए के लिए,  जमीन के लिए उन्होंने देश की सुरक्षा को शहीद करने का प्रयास किया। स्मृति ईरानी ने कहा कि 70 सालों में संस्थागत भ्रष्टाचार कांग्रेस की देन रही है, लेकिन पिछले 24 घंटों में  समाचार माध्यमों से जो तथ्य आए हैं, वो दर्शाते हैं कि कैसे गांधी-वाड्रा परिवार ने पारिवारिक भ्रष्टाचार को परिभाषित किया है।
एक समाचार सूत्र के माध्यम से राष्ट्र को जानकारी मिली है कि एचएल पाहवा नाम के एक व्यक्ति के यहां ईडी की रेड में उसके पास से राहुल गांधी के साथ लेन-देन के दस्तावेज  मिले हैं। जमीन की खरीददारी से संबंधित इन दस्तावेजों से ये बात सामने आई कि एचएल पाहवा के साथ राहुल गांधी के आर्थिक संबंध हैं। एचएल पाहवा के यहां हुई रेड में चौंकाने  वाली बात ये है कि उनके पास जमीन की खरीद-फरोख्त के लिए पैसे नहीं थे। राहुल गांधी और मिसेस वाड्रा के लिए जमीन खरीदने के लिए सीसी थंपी ने 50 करोड़ से ज्यादा रुपए  दिए।
स्मृति ईरानी ने कहा कि सीसी थंपी का नाम यूपीए सराकर के दौरान पेट्रोलियम डील और दिल्ली-एनसीआर में 280 करोड़ की जमीन खरीदी में सामने आया है। इन सौदों की जांच  में पता लगता है कि जीजा जी के साथ साले साहब भी पारिवारिक भ्रष्टाचार में शामिल हैं। सीसी थंपी और आर्म्स डीलर संजय भंडारी के बीच संबंध जगजाहिर हैं। संजय भंडारी के रॉबर्ट वाड्रा से करीबी संबंध हैं, भंडारी के खिलाफ डिफेंस डील को लेकर जांच चल रही है। उन्होंने कहा कि नए तथ्य जो सामने आए हैं, उनसे साफ स्थापित होता है कि राहुल गांधी  और आर्म्स डीलर संजय भंडारी के बीच करीबी रिश्ते हैं। ऐसे में राष्ट्र यह मानता है कि राहुल गांधी रक्षा तैयारियों में एक अड़चन हैं। यह अड़चन राहुल की व्यक्तिगत राजनीति, उनके  और उनके परिवार के आर्थिक हितों से उपजी है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget