देश का चौथा सबसे बड़ा बैंक होगा बीओबी

नई दिल्ली
बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) में देना बैंक और विजया बैंक का विलय एक अप्रैल से प्रभावी हो जाएगा। यानी, देना और विजया बैंक के ग्राहको के बैंक खाते अब बैंक ऑफ बड़ौदा में  ट्रांसफर हो जाएंगे। बैंक ऑफ बड़ौदा के निदेशक मंडल ने विजया बैंक और देना बैंक के शेयरधारकों को बैंक ऑफ बड़ौदा के इक्विटी शेयर जारी और आवंटित करने के लिए रिकॉर्ड  डेट 11 मार्च तय की है। विलय योजना के तहत विजया बैंक के शेयरधारकों को प्रत्येक 1,000 शेयर पर बैंक ऑफ बड़ौदा के 402 इक्विटी शेयर मिलेंगे। इसी तरह देना बैंक के  शेयरधारकों को प्रत्येक 1,000 शेयरों पर बैंक ऑफ बड़ौदा के 110 शेयर ही मिलेंगे। विलय के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा। अभी 45.85 लाख  करोड़ रुपए मूल्य के कारोबार के साथ स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) पहले, 15.8 लाख करोड़ रुपए के साथ एचडीएफसी बैंक दूसरे और 11.02 लाख करोड़ रुपए के कारोबार के  साथ आईसीआईसीआई बैंक तीसरे स्थान पर है। नए बैंक ऑफ बड़ौदा का कारोबार 15.4 लाख करोड़ रुपए का होगा। इस तरह आईसीआईसीआई को पछाड़कर बीओबी देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा।

विलय से पहले बीओबी में पूंजी डालेगी सरकार
सरकार ने बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) में विजया बैंक और देना बैंक के विलय से पहले उसमें (बीओबी) 5,042 करोड़ रुपए की पूंजी डालने का फैसला किया है। बैंक ऑफ बड़ौदा के  साथ देना बैंक और विजया बैंक के विलय की योजना एक अप्रैल से अस्तित्व में आ जाएगी। बैंक ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि वित्त मंत्रालय ने बुधवार को अधिसूचना के माध्यम से बैंक ऑफ बड़ौदा में 5,042 करोड़ रुपए की पूंजी डालने की फैसले की जानकारी दी। बीओबी ने कहा कि बैंक के इक्विटी शेयरों (विशेष प्रतिभूति/ बांड) के तरजीही  आवंटन के जरिए पूंजी डाली जाएगी। यह सरकार के निवेश के रूप में होगा।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget