इलेक्ट्रिक वाहनो का चलन बढाने मे ई रीक्षा की अहम भूमीका

नई दिल्ली
बैटरी से चलने वाले रिक्षा देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के काम में तेजी ला सकता है। ई-रिक्षा आसानी से हासिल होने वाली उपलŽब्धि है जिसके सहारा इलेक्ट्रिक वाहनों के चलन में तेजी लाई जा सकती है। कुछ शहरी इलाकों में शुरुआती और अंतिम छोर तक की परिवहन सेवा के रूप में ई-रिक्षा की 'प्रासंगिकता’ बेजोड़ है।
डेलॉयट ने अपनी एक रिपोर्ट में यह बात कही है। 'सार्वजनिक परिवहन के विद्युतीकरण से भारत की इलेक्ट्रिक वाहन आकांक्षा को पूरा करनाï’ नामक इस रिपोर्ट में कहा गया है कि  सरकार देश में इलेक्ट्रिक वाहनों की सफलता के लिए उपयु€त माहौल बनाने में बड़ी भूमिका निभाएगी। हालांकि, हो सकता है कि वह शुरुआत में पूरा जोखिम उठाने पर विचार नहीं  करे। रिपोर्ट में कहा गया कि सरकार को सब्सिडी और नीतिगत रूपरेखा विकसित करने जैसी सहायता प्रदान करके सुवब्धिा प्रदाता की भूमिका निभानी चाहिए। भारत के संदर्भ में ई- रिक्षा या बैटरी से चलने वाले तिपहिया वाहनों की महत्ता पर जोर देते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि शहरी परिवहन प्रणाली सामान्य तौर पर प्रमुख मार्गों पर पहले और आखिरी  दोनों छोरों पर आवागमन की सुवब्धिा देने वाली महत्वपूर्ण वाहन है। इन शहरों या क्षेत्रों के लिए आटो-रि€शों का विद्युतीकरण एक अच्छा समाधान हो सकता है ... ई-रिक्षा की लागत  कम होने के कारण इलेक्ट्रिक वाहन अपनाने में यह सुवब्धिा बिना ज्यादा मेहनत किए हासिल होने वाली उपलŽब्धि की तरह है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget