लाभकारी व्यायाम है टहलना

आज की व्यस्त जिंदगी में इंसान के पास इतना समय भी नहीं है कि वह कुछ समय अपने शरीर पर ध्यान देने में लगा सके। परिणामस्वरूप आज अधिकतर व्य€क्ति बीमारियों की  गिरफ्त में फंसे रहते हैं। जब तकलीफ अधिक हुई, तब दवा ले ली वर्ना हर समय काम में ही व्यस्त रहना उनकी नियति बन जाती है। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि अच्छी सेहत  भी व्य€क्ति के लिए एक नियामत है। स्वस्थ व्य€क्ति जक्तिना चाहे शारीरिक काम कर सकता है। उसे कोई थकान या बीमारी नहीं होती। रोगों से मु€त रहने के लिए व्यायाम एक  उत्तम टॉनिक का कार्य करता है।
टहलना सबसे सरल व उत्तम व्यायाम है, जिसे हर आयु वर्ग के व्य€क्ति सरलता से कर सकते हैं। प्रात: समय जलवायु में सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों व ऑ€सीजन की काफी मात्रा होती है, जो पौष्टिक भोजन से भी अधिक लाभ पहुंचाती है। चूंकि टहलने में अधिक बल लगाने की आवश्यकता नहीं होती, इसीलिए इसे गठिया, दमा और दिल के मरीज भी आसानी  से कर सकते हैं। वैसे टहलना एक साधारण बात समझी जाती है, मगर इसे नियमित दिनचर्या का अंग बना लेने से हम अपने स्वास्थ्य को अप्रत्याशक्ति लाभ पहुंचा सकते हैं।  गांधी जी अत्यंत व्यस्त रहते हुए भी टहलने का क्रम जारी रखते थे। विश्व के अनेक महत्वपूर्ण व्य€क्ति उनसे मिलने आते और महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करते मगर फिर भी वे  नियत समय पर टहलने अवश्य जाते थे। वे इसे भोजन करने से भी अधिक महत्वपूर्ण मानते थे। वे हमेशा प्रार्थना से पहले घूमने जाते थे। स्वास्थ्य वैज्ञानिकों के अनुसार हम भले ही विशिष्ट प्रकार के व्यायाम €यों न कर लें, मगर हमें प्रतिदिन कम से कम दो घण्टे अवश्य टहलना चाहिए। अन्य व्यायामों की तुलना में टहलना एक अति उपयोगी व विशेष  व्यायाम है। कई व्य€क्ति प्रात: उठते ही दैनिक कार्यों में व्यस्त हो जाते हैं। वे टहलने को कोई महत्व नहीं देते, मगर मानसिक व शारीरिक संतुलन बनाए रखने के लिए टहलना अति आवश्यक है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget