यूके ने की पीएचडी लेवल के वर्क वीजा की सीमा खत्म

लंदन
यूके सरकार विदेशी पीएचडी डिग्रीधारकों को अपने यहां काम करने के लिए वीजा की संख्या की सीमा खत्म करने जा रही है। इससे बड़े पैमाने पर उच्च डिग्रीधारी भारतीय  पेशेवरों को फायदा मिलेगा। यूके के चांसलर फिलिप हैमंड ने एक बजट अपडेट में ऐलान किया कि इसी वर्ष से उच्च शिक्षा आधारित नौकरियों के लिए ब्रिटेन में आने वाले लोगों की  संख्या की सीमा नहीं रहेगी। हैमंड ने हाउस ऑफ कॉमन्स को अपने संबोधन में बताया कि ब्रिटेन को तकनीकी क्रांति के अगुआ बनाए रखना हमारी योजना का प्रमुख स्तंभ है। इससे  हमारी अर्थव्यवस्था का कायाकल्प हो रहा है और, इस लक्ष्य को साधने लिए पतझड़ के मौसम से हम पीएचडी लेवल की नौकरियों के लिए वीजा की संख्या की सीमा खत्म कर देंगे।

इसी साल से नया नियम लागू

उन्होंने अपने बयान में कहा कि ऑटम 2019 से पीएचडी स्तर की नौकरियों को टियर 2 (जनरल) की सीमा से मु€त कर देंगे और उसी व€त 180 दिनों की अनुपस्थिति से संबंधित  आव्रजन कानून (इमिग्रेशन रूल्स) भी बदल दिए जाएंगे, ताकि विदेशों में फील्डवर्क करने वाले रिसर्चर यूके में रहना चाहें तो उन्हें परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।

54 प्रतिशत वर्क विज पर भारतीयोंका कब्जा

यूके के गृह मंत्रालय के बिल्कुल ताजातरीन आंकड़ों के मुताबिक 2018 में उच्च कौशल की नौकरियों के लिए 54 प्रतिशत टियर 2 (जनरल) श्रेणी के वर्क वीजा भारतीयों को दिए गए  थे। पिछले साल भारतीयों को इस कैटिगरी के वीजा की स्वीकृति में भी सबसे बड़ी वृद्धि दर्ज की गई। आंकड़े बताते हैं कि 2017 के मुकाबले 2018 में भारतीयों को 6 प्रतिशत यानी  3,023 ज्यादा वीजा मिले।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget