हर हाल में आईएसएल खिताब जीतना चाहते थे: सुनील छेत्री

मुंबई
चैंपियन बैंग्लोर एफसी के कप्तान सुनील छेत्री ने एफसी गोवा के खिलाफ टीम की इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) की पहली खिताबी जीत को शानदार करार दिया, खासकर तब  जब उनकी टीम पिछले सत्र में चेन्नैयन एफसी के खिलाफ फाइनल में हार गई थी। राहुल भेके के 116वें मिनट में किए गए शानदार हेडर की मदद से बैंग्लोर एफसी ने मुंबई फुटबॉल एरेना में खेले गए फाइनल में एफसी गोवा को 1-0 से हराकर आईएसएल के पांचवें सत्र का खिताब अपने नाम किया था। छेत्री ने मैच के बाद कहा कि पिछले साल फाइनल  के बाद, मैंने कहा कि अगले साल हम फिर वापस आएंगे। बॉल बॉय से लेकर कोच चार्ल्स कुआडार्ट तक, हर कोई यही चाहता था। हम किसी भी कीमत पर खिताब को जीतना चाहते थे। जिस तरह हम पिछले साल हारे, उससे यह जीत काफी शानदार है। एशिया हम वापस आ गए हैं। आईएसएल खिताब को जीतकर बैंग्लोर एफसी ने अगले साल एएफसी एशियाई  कप में खेलेने का टिकट भी कटा लिया। छेत्री ने कहा कि टीम का प्रदर्शन इसलिए भी सराहनीय है €योंकि गोल्डन बूट का खिताब पाने वाले फेरान कोरोमिनास जैसे खिलाड़ी को बैंग्लोर  एफसी ने सत्र के तीनों मैचों में अपनी टीम के खिलाफ गोल करने का कोई मौका नहीं दिया। इस सत्र में बैंग्लोर की गोवा पर यह लगातार तीसरी जीत है। 34 साल के छेत्री ने कहा  कि कोच ने कहा था कि हम आक्रमण करने की कोशिश करेंगे लेकिन जैसे ही गेंद से हमारा नियंत्रण हटेगा, हमें रक्षापंक्ति की तरफ आ जाना चाहिए। मेरे, मिकू और उदंता (सिंह)  जैसे खिलाड़ियों के लिए हालांकि यह आसान नहीं था, €योंकि हमें आक्रामक खेलना पसंद है। इस बीच गोवा के कोच सर्जियो लोबेरा ने कहा कि अहमद जाहो को अतिरि€त समय के  पहले हॉफ से ठीक पहले रेड कार्ड के कारण मैदान से बाहर जाना पड़ा, जो इस मैच का सबसे अहम पल साबित हुआ। उन्होंने कहा कि मैच का सबसे अहम समय तब था जब  अतिरि€त समय के पहले हॉफ में हमारी टीम 10 खिलाड़ियों के साथ खेलने पर मजबूर हो गई।
यह बहुत करीबी मुकाबला था और उनके बाहर जाने से हमारी टीम कमजोर हो गई थी। हार के बाद भी गोवा के कोच ने कहा कि उन्हें टीम के खिलाड़ियों पर फख्र है। उन्होंने कहा  कि अब हम सुपर कप की तैयारी करेंगे। मैंने ड्रेसिंग रूप में खिलाड़ियों को कहा है कि उन्होंने जैसा खेल दिखाया, उस पर गर्व है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget