सर्वत्र सुख, समृद्धि और सौहार्द हो : आरएन सिंह

आज होलिका दहन है। होलिका में लकड़ी जलती है। लकड़ी यहां प्रतीक है हमारे उस अहंकार का, नफरत का, शत्रुता के भाव का, जो पारस्परिक सामंजस्य और सौहार्द बिगाड़ती है।  हमारे तकरीबन हर त्यौहारों का ध्येय उन बुराइयों का, दुर्गणों का त्याग है, जो समाज में अलगाव, दुर्भावना और कटुता निर्मित करते हैं।
हमारे त्यौहार यशोगान हैं उन मानवीय उदात्त गुणों का, जिसका अनुपालन कर व्यक्ति अपना, अपनों का, अपने देश, समाज का जीवन खुशहाल, समृद्घ और सौहार्दपूर्ण कर सकता  है। तो आइए, होलिका दहन के साथ उन तमाम बुराइयों का दहन करें, जो आपसी सद्भाव को समाप्त करती हैं। बसंतोत्सव की इस बेला में जब प्रकृति भी रंग-बिरंगी है, रंगों की  फुहार रूपी प्रेम जल की वर्षा से हर जगह प्रेम, सहयोग, परोपकार और देश प्रेम की भावना का बीजारोपण करें और भगवान नरसिंह से प्रार्थना करें कि देश के हर कोने में रंग हो,  उत्सव हो और उत्साह तथा समृद्घि हो।
होली के इस अवसर पर मैं मुंबई, महाराष्ट्र सहित देश के सभी हिंदी भाषी समाज, समस्त देशवासियों और 'हमारा महानगर’ के पाठकों, विज्ञापनदाताओं और शुभचिंतकों को  होली  की हार्दिक बधाई देता हूं। साथ ही भगवान नरसिंह से प्रार्थना करता हूं कि हमारी, हमारे देश के विकास में, एकता में जो नकारात्मकताएं हैं, होलिका की ज्वाला में भस्मीभूत हों और  पूरे देश के कोने- कोने में प्रगति का, समृद्धि का, सौहार्द का सतरंगी रंग दृष्टिïगोचर हो।

असीम शुभकामनाओं सहित
आर. एन. सिंह
विधायक
अध्यक्ष : उत्तर भारतीय संघ, मुंबई
संपादक : 'हमारा महानगर’
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget