मुंबई में उत्साह एवं उमंग के साथ मनाई गई होली

मुंबई
शहर एवं उपनगरों में रंगों के पर्व होली पर गुरूवार को जमकर रंग-गुलाल और अबीर उड़े। इसमें केवल युवक युवतियों ने ही नहीं, बल्कि हर आयु वर्ग के लोगों ने हिस्सा लिया।  विभिन्न इलाकों में सुबह ही युवकों की टोलियां एक-दूसरे पर रंग डालते तथा गुलाल मलते निकल पड़ीं। महिलाओं की टोली भी अपने को रोक नहीं सकी, विभिन्न इलाकों में होली का  हुड़दंग भी देखने को मिला । रंग की वजह से शहर में 27 लोग बीमार हो गए ,जिन्हें अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है । राज्यपाल सी.विद्यासागर राव, मुख्यमंत्री देवेंद्र  फड़नवीस ने नागरिकों को होली की बधाई दी । लोकसभा चुनाव एवं पुलवामा हमले का असर भी होली के त्यौहार पर देखने को मिला । विभिन्न दलों के नेताओं ने होली के  कार्यक्रमों में बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। बुधवार को शाम होलिका दहन के साथ ही होली शुरू हो गई ।
होलिका जलाने के बाद एक दूसरे पर रंग-गुलाल फेंकने का सिलसिला शुरू हो गया जो गुरुवार को देर शाम तक चलता रहा । इस साल सामाजिक सरोकार भी देखने को मिला। कई  स्थानों पर आतंकवाद,भ्रष्टाचार ,व कुरीतियों की होली जलाकर सामाजिक संदेश देने का भी प्रयास किया गया है। सायन 12 फुट ऊंची पबजी की प्रतिकृति बनाकर उसकी होली  जलाईगई। लोकल ट्रेनों पर पानी से भरे गुब्बारे फेंकने से रोकने को लेकर रेलवे सुरक्षा बल एवं राजकीय रेलवे पुलिस ने विशेष इंतजाम किए थे । बावजूद इसके लोकल ट्रेनों के  यात्रियों पर रंग फेंकने में कोई गुरेज नहीं किया गया । हालांकि किसी भी यात्री के घायल होने की खबर नहीं आई । विभिन्न इलाकों में हुडदंगों की टोली ने अबीर-गुलाल के साथ ही  खराब मोबिल आयल का प्रयोग कालिख में मिलाकर किया । कई स्थानों में लोगों ने एक दूसरे के चेहरे को केमिकल युक्त पेंट से रंग दिया । हालांकि रंग व गुलाल लगाने तथा  लगवाने वाले दोनों ही प्रसन्न चित्त माहौल में दिख रहे थे ।
विभिन्न औद्योगिक एवं व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में भी लोगों ने जमकर होली खेली । सड़कों पर होली का ही खुमार दिखाई दिया,कोई गले मिल रहा था तो कोई बड़ों का चरण स्पर्श  कर आशीर्वाद ले रहा था । रासायनिक रंगों की वजह से कई लोग बीमार हो गए । पूर्व उपनगर के घाटकोपर, विक्रोली में होली खेलने के दौरान कई अतिउत्साही लोग जम्मी हो गए। मुंबई के  राजावाड़ी अस्पताल में 12 लोगों को भर्ती कराया गया । जिसमें से 2 लोग ठंडई पीने की वजह से विषबाधा के शिकार बताये गए । रासायनिक रंग एवं रंगों के गुब्बारों का  उपयोग नहीं करने की अपील प्रशासन एवं सामाजिक संस्थाओं की तरफ से की गई थी, लेकिन होली के दिन इसका खास असर देखने को नहीं मिला । मुंबई के जीटी,सेंट जार्ज  अस्पताल,जेजे अस्पताल, केईएम सहित अन्य अस्पतालों में 27 लोगों को भर्ती कराया गया है ,जिसमें से कई मरीजों ने आंखों एवं स्कीन में जलन की शिकायत की है ।

9191 लोगों पर कार्रवाई
होली के दिन मुंबई में सुरक्षा व्यवस्था का पुख्ता इंतजाम किया गया था । कहीं भी किसी प्रकार की अनहोनी नहीं हो , इसके मद्देनजर पुलिस सतर्क दिखाई दी। खबर लिखे जाने तक  इस वर्ष मुंबई की ट्रैफिक पुलिस ने 9191 लोगों पर गलत तरीके से गाड़ी चलाने के मामले में गिर तार किया है। इस कार्रवाई में शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों के खिलाफ, बिना  हेलमेट पहने गाड़ी चलानेवालों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget