नाणार ग्रीन रिफायनरी परियोजना रद्द

मुंबई
शिवसेना के साथ युति की शर्तों को मानते हुए राज्य की देवेंद्र फड़नवीस सरकार ने बहुचर्चित नाणार ग्रीन रिफायनरी परियोजना की अधिसूचना को रद्द कर दिया। शनिवार को  मंत्रालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेस में शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्य के उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने पत्रकारों से कहा कि नाणार परियोजना की अधिसूचना रद्द कर दी गई है  और शिवसेना ने कोकणवासियों से किया वादा पूरा किया है। देसाई ने कहा कि जिस इलाके के लोग इस परियोजना को लगाने के लिए राजी होंगे, वहां यह परियोजना लग सकती है।  नाणार ग्रीन रिफायनरी परियोजना की अधिसूचना रद्द होने के बाद अधिग्रहित की गई जमीन गैर अधिसूचित करने की प्रक्रिया एमआईसीडी के माध्यम से पूरी की जाएगी। लोकसभा   चुनाव के लिए आचार संहिता लागू होने से पहले यह कार्य पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि नाणार परियोजना रद्द होने से राज्य में आने वाले विदेशी निवेश पर कोई असर नहीं होगा।  देसाई ने कहा कि नाणार परियोजना क्षेत्र की 14 ग्राम पंचायतों की ग्राम सभाओं में परियोजना के विरोध का प्रस्ताव मंजूर हुआ था। साथ ही नाणार इलाके के लोग, कोकण के  पर्यावरण प्रेमी इसके विरोध में थे। रत्नागिरी की एक सभा में नाणार में भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया रद्द करने की घोषणा की गई थी। मु यमंत्री ने इस संबंध में उद्योग मंत्री को निर्णय लेने को कहा था।

प्रस्तावित था तीन लाख करोड़ का निवेश :
देश की पेट्रोलियम कंपनियों और सउदी अरब की अरमाको कंपनी संयुक्तरुप से कोकण स्थित रत्नागिरी के नाणार में यह परियोजना लगा रही थी। तीन लाख करोड़ के निवेश से  लगने वाली इस परियोजना में करीब डेढ़ लाख लोगों को रोजगार मिलने वाला था, लेकिन स्थानीय लोग इसलिए इसका विरोध कर रहे थे कि उन्हे आशंका थी कि इससे होने वाले
प्रदूषण से आम की खेती सहित मछली व्यवसाय भी प्रभावित होगा। शिवसेना स्थानीय लोगों की मांग का समर्थन करते हुए परियोजना रद्द करने की मांग कर रही थी, लेकिन राज्य  सरकार इसे रद्द करने के लिए तैयार नहीं थी। पिछले दिनों शिवसेना इस शर्त पर भाजपा से युति को तैयार हुई थी कि नाणार परियोजना रद्द की जाएगी। जमीन अधिग्रहण  अधिसूचना रद्द होने से यह तय हो गया है कि ग्रीन रिफायनरी परियोजना अब कोकण में नहीं लग सकेगी। इस परियोजना के तहत 14 गांवों की 15 हजार हेक्टेयर भूमि अधिग्रहित  होने वाली थी। इससे 22 हजार किसान और साढे चार हजार मछली मारने वालों के प्रभावित होने की आशंका थी। मई 2017 में नाणार में भूमि अधिग्रहण की अधिसूचना जारी हुई थी।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget