फेम इंडिया : सार्वजनिक परिवहन वाहन मालिकोंको दिखाना होगा वैध परमिट

नई दिल्ली
सरकार की फेम इंडिया योजना का लाभ उठाने के लिए इले€क्ट्रिक यानी बिजली चालित तिपहिया और चार पहिया वाहन मालिकों को आगामी एक अप्रैल से सार्वजनिक परिवहन वाहन  के लिए सरकारी एजेंसी से लिया गया वैध परमिट दिखाना होगा। फेम इंडिया योजना 10,000 करोड़ रुपए की है। ऐसे वाहन मालिकों को सरकारी एजेंसी से प्राप्त परमिट दिखाना होगा जिसमें यह कहा गया होगा कि वाहन का इस्तेमाल केवल सार्वजनिक परिवहन के लिए किया जाएगा। फेम इंडिया योजना का दूसरा चरण एक अप्रैल, 2019 से तीन साल की  अवधि के लिए क्रियान्वित किया जा रहा है। इस योजना के तहत ए€क्स-फै€टरी यानी कारखाने से निकलते समय पांच लाख रुपए तक मूल्य के पांच लाख ई-रि€शा को 50,000-50,000   रुपए का प्रोत्साहन दिया जाएगा।
इसी तरह कारखाना गेट पर 15 लाख रुपए मूल्य तक के 35,000 बिजली चालित चारपहिया वाहनों को डेढ़-डेढ़ लाख रुपए के प्रोत्साहन की पेशकश की गई है। भारी उद्योग मंत्रालय  द्वारा अधिसूचित फेम-दो योजना के तहत मांग प्रोत्साहन की आपूर्ति के लिए डीलरों को स्पष्ट दिशानिर्देशों दिए गए हैं। इसके अनुसार डीलर को यह सुनिश्चित करना होगा कि  तिपहिया अथवा चार पहिया वाहन का निजी इस्तेमाल के लिए उपयोग करने वालों को यह प्रोत्साहन नहीं दिया जाना चाहिए। हालांकि, डीलर निजी व्यक्तियों को बिजली चालित  दोपहिया की बिक्री पर प्रोत्साहन का दावा कर सकता है। भारी उद्योग मंत्रालय ने कहा कि ई-3 डŽल्यू, ई-4डŽल्यू और ई-बस खंड में यह प्रोत्साहन सिर्फ उन वाहनों को मिलेगा, जिनका  इस्तेमाल सार्वजनिक परिवहन के लिए किया जाता है या जो वाणिज्यिक उद्देश्य से पंजीकृत हैं। वहीं ई-2डŽल्यू खंड में निजी स्वामित्व वाले वाहनों के अलावा सार्वजनिक परिवहन या  वाणिज्यिक उद्देश्य के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले वाहनों पर भी प्रोत्साहन मिलेगा। दिशानिर्देशों के अनुसार डीलर को यह सुनिश्चित करना होगा कि किसी एक श्रेणी में एक व्यक्ति को एक बार ही प्रोत्साहन दिया जाए। कोई भी व्यक्ति एक ही श्रेणी में से एक से अधिक वाहन पर प्रोत्साहन का दावा नहीं कर सकता है। हालांकि, व्यक्तिगत श्रेणी के  अलावा अन्य श्रेणियों में वाहनों की संख्या को लेकर कोई अंकुश नहीं है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget