जेल मे ही रहेगा भगोडा नीरव

नई दिल्ली
पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज कर दी गई है। ऐसे में नीरव को कुछ और समय लंदन की जेल में ही बिताना होगा। लंदन की कोर्ट ने इसे  'असामान्य धोखाधड़ी’ केस कहा। लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में सुनवाई के दौरान बेहद चौंकाने वाला खुलासा हुआ।
भारतीय प्राधिकरण की तरफ से पेश हुए क्राउन प्रोसे€यूशन सर्विस के टॉबी कैडमैन ने लंदन की कोर्ट को बताया कि नीरव मोदी ने एक गवाह 'आशीष लाड’ को बुलाकर, उसे जान से  मारने की धमकी दी थी। इस मामले में अगली सुनवाई 26 अप्रैल को होगी। कैडमैन ने कोर्ट में यह भी कहा कि नीरव मोदी भारतीय एजेंसी के साथ सहयोग नहीं कर रहे हैं। कोर्ट में  नीरव की जमानत अर्जी खारिज करने की मांग करते हुए कहा कि नीरव मोदी को कोर्ट से जमानत न दी जाए, इसके पीछे पर्याप्त कारण हैं। इनमें पहला यह है कि वह जमानत  मिलने पर देश छोड़ने की कोशिश करेगा। इसके अलावा यदि वह जेल से बाहर होता है, तो सबूतों को नष्ट करने और गवाहों को प्रभावित करने का प्रयास भी कर सकता है। वहीं  नीरव मोदी के वकील ने कोर्ट में कहा कि नीरव मोदी जनवरी 2018 से लंदन में हैं। सब जानते हैं कि वह लंदन में हैं और उन्होंने इस बात को छिपाने की भी कोशिश नहीं की है।  नीरव के वकील ने कोर्ट से यह भी कहा था कि नीरव मोदी को गृहबंदी या इले€ट्रॉनिक मॉनिटरिंग में भी रखा जा सकता है। इसमें रोजाना लोकल पुलिस स्टेशन में हाजिरी लगाना भी  हो सकता है। वकील ने कहा कि नीरव मोदी को स्पेशल फोन भी दिया जा सकता है, जिससे अथॉरिटी कभी भी उससे संपर्क कर सके। मुख्य मैजिस्ट्रेट एम्मा अर्बथनॉट ने इस बारे में टिप्पणी की, 'यह महज कुछ कागजों वाली बड़ी फाइल है।’ अर्बथनॉट ने ही पिछले साल दिसंबर में विजय माल्या के प्रत्यर्पण का आदेश दिया था। नीरव मोदी के वकीलों ने सुनवाई  से पहले कहा कि वे प्रभावी जमानत याचिका पेश करने की कोशिश करेंगे।
इससे पहले जिला न्यायाधीश मैरी मैलोन की अदालत में पहली सुनवाई में नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज की जा चुकी है। नीरव मोदी को स्कॉटलैंड यार्ड ने मध्य लंदन की  एक बैंक शाखा से गिरफ्तार किया था।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget