आपका वोट हथियार है: प्रियंका गांधी

गांधीनगर
कांग्रेस महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी बनने के बाद प्रियंका गांधी ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य गुजरात में अपनी पहली चुनावी रैली को संबोधित  किया। गांधीनगर में करीब 10 मिनट के अपने पहले और नपे-तुले संबोधन में उन्होंने महात्मा गांधी, प्रेम और अहिंसा की बात करते हुए सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा और पीएम नरेंद्र मोदी  पर निशाना साधा। प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि यह देश आपका है। उन्होंने कहा कि आने वाले दो महीनों में फिजूल के मुद्दे उठाए जाएंगे, ऐसे में आपको जागरूक होना है, क्योंकि  इस चुनाव के जरिए आप अपना भविष्य चुनने जा रहे हैं। आपको बता दें कि कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक मंगलवार को अहमदाबाद में हुई, जिसमें पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  और भाजपा को कई मुद्दों पर घेरा। संबोधन की शुरुआत करते हुए प्रियंका ने कहा, 'मुझे मालूम था कि आज मीटिंग है, लेकिन मन में सोचा था कि शायद भाषण देने की जरूरत न  पड़े। मैं भाषण नहीं देती हूं आपसे दो शब्द कहती हूं, जो मेरे दिल में है।’ प्रियंका गांधी ने कहा कि मैं पहली बार गुजरात आई हूं और पहली बार साबरमती के उस आश्रम में गई,  जहां से महात्मा गांधी ने इस देश की आजादी का संघर्ष शुरू किया था। उन्होंने कहा, 'वहां उन पेड़ों के नीचे बैठे हुए मेरे आंसू आ गए। मैंने उन देशभक्तों के बारे में सोचा, जिन्होंने  इस देश के लिए अपनी जान दे दी। जिनके बलिदानों पर इस देश की नींव पड़ी है।
वहां बैठे हुए मन में ये बात आई कि ये देश प्रेम, सद्भावना और आपसी प्यार के आधार पर बना है, लेकिन आज जो कुछ देश में हो रहा है, उससे दुख होता है।’ 'सबसे बड़ी  देशभक्ति- आप जागरूक बनें’: प्रियंका ने कहा, 'मैं दिल से आपसे कहना चाहती हूं कि इससे बड़ी कोई देशभक्ति नहीं है कि आप जागरूक बनें। आपकी जागरूकता एक हथियार है।  आपका वोट एक हथियार है, लेकिन यह ऐसा हथियार है, जिससे किसी को चोट नहीं पहुंचानी, किसी को दुख नहीं देना, किसी को नुकसान नहीं पहुंचाना। यह ऐसा हथियार है, जो  आपको मजबूत बनाएगा। आपको बहुत गहराई से सोचना पड़ेगा कि यह चुनाव क्या है?’
प्रियंका ने कहा कि इस चुनाव के जरिए आप अपना भविष्य चुनने जा रहे हैं। ऐसे में फिजूल के मुद्दे नहीं उठने चाहिए। आपके लिए मुद्दे वहीं उठने चाहिए, जिसमें आपका हित है।  नौजवानों को रोजगार कैसे मिलेगा, महिलाएं आगे कैसे बढ़ेंगी, वे सुरक्षित कैसे रहेंगी? किसानों के लिए क्या किया जाएगा? ये चुनावी मुद्दे हैं। आपकी जागरूकता ही इन मुद्दों को आगे  ला सकती है। इस बार सोच-समझकर ही निर्णय लें। उन्होंने कहा कि जो आपके साथ बड़ी-बड़ी बातें करते हैं, बड़ेबड़े वादे करते हैं। उनसे पूछिए कि उन्होंने क्या किया?

'नफरत की हवाओं को प्रेम में बदलेंगे’:

प्रियंका ने कहा कि यहां जहां से आजादी की लड़ाई शुरू हुई थी। जहां से गांधी जी ने प्रेम, अहिंसा और सद्भावना की आवाज उठाई है। मैं सोचती हूं कि यहीं से आवाज उठनी चाहिए,  जो अपनी फितरत की बात करते हैं उन्हें बताइए कि इस देश की फितरत क्या है? इस देश की फितरत है कि जर्रे-जर्रे से सच्चाई ढूंढ़कर निकालेंगे। नफरत की हवाओं को प्रेम और करुणा में बदलेगी।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget