शंघाई में होगी फार्मूला वन की 1000वीं रेस

शंघाई
इंग्लैंड के ग्रामीण इलाके में दूसरे विश्व युद्ध के लिये तैयार किये हवाई अड्डे पर पहली रेस से लेकर इस सप्ताहांत शंघाई के 240 मिलियन डॉलर में तैयार अंतर्राष्ट्रीय सर्किट पर  होने वाली 1000वीं रेस तक फार्मूला वन ने लंबा रास्ता तय किया है, जिसकी शुरुआत 1950 में हुई थी। सिल्वरस्टोन में पहली रेस 69 वर्ष पहले आयोजित की गयी थी और ब्रिटिश ग्रां प्री तब से लेकर अब भी फार्मूला वन का हिस्सा बनी हुई है। उसके अलावा इटालियन ग्रां प्री ही ऐसी रेस है, जो हमेशा कैलेंडर का हिस्सा रही। पिछले 70 सत्र में फार्मूला वन पांच महाद्वीपों के 32 देशों की यात्रा की और वियतनाम में स्ट्रीट सर्किट अगले साल इस श्रेणी में नया नाम जुड़ जाएगा। फार्मूला वन संगठन को 2017 में अमेरिकी मीडिया की दिग्गज  कंपनी लिबर्टी मीडिया ने आठ अरब डॉलर में खरीदा था और अब वह वाल स्ट्रीट में सूचीबद्ध है। एक जमाना था जबकि टायर और तेल कंपनियां ड्राइवरों की पोशाक पर लोगो लगाने  के लिये अपने उत्पादों को मुब्त में वितरित करती थी। इटली के जियुसेपी फारिना ने मई 1950 में पहली रेस जीती थी और इसके चार महीने बाद स्वदेश में विश्व चैंपियनशिप अपने  नाम की थी। अब एक सत्र उससे लगभग दोगुने समय तक चलता है। माइकल शूमाकर के नाम पर सात बार विश्व चैंपियनशिप जीतने का रिकॉर्ड दर्ज है और यह भी संयोग है कि  उन्होंने अपनी अंतिम रेस 2006 में शंघाई में जीती थी।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget