मोदी ने आतंकवाद पर विपक्ष को घेरा

सहारनपुर/अमरोहा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस, सपा और बसपा पर आतंकवाद को मदद पहुंचाने का आरोप लगाते हुए कहा कि ये दल दुनिया के सामने बेनकाब हो रहे पाकिस्तान के पक्ष की बातें   करके वहां 'हीरो’ बनने की होड़ कर रहे हैं। मोदी ने अमरोहा में आयोजित रैली में कहा, ''जब पाकिस्तान पूरी दुनिया के सामने बेनकाब हो रहा है, तो ये उसके पक्ष की बात कर रहे हैं, वहां पर हीरो बनने की स्पर्धा कर रहे हैं। कांग्रेस हो, सपा-बसपा हो, आतंकवाद पर इसी नरम रवैये की वजह से कुछ लोगों के हौंसले बुलंद हुए हैं। इन दलों ने सिर्फ आतंक की  ही मदद नहीं की है, इन्होंने आपके जीवन और अस्तित्व को संकट में डाला है।’’ मुस्लिम बहुल सहारनपुर में मोदी ने तीन तलाक का मुद्दा उठाते हुए कहा कि उनकी सरकार ने  मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक के कुचक्र से मुक्ति दिलाकर उनका जीवन सुरक्षित करने का प्रयास किया, लेकिन कांग्रेस और उसके सहयोगी ऐसा नहीं चाहते।
उन्होंने कहा, ''मैं मुस्लिम बेटियों से कहना चाहता हूं कि कांग्रेस, सपा, बसपा के राज में मुस्लिम महिलाओं का शोषण जारी रहेगा। ये तीन तलाक के खिलाफ कानून को भी अनुमति  नहीं देंगे। और हम जो अध्यादेश लाएं हैं, उसे पारित नहीं होने देंगे।’’
प्रधानमंत्री ने सहारनपुर से कांग्रेस प्रत्याशी इमरान मसूद द्वारा वर्ष 2014 में अपने खिलाफ दिए गए 'बोटी-बोटी काट देंगे’ वाले बयान की याद दिलाते हुए कहा, ''यहां तो बोटी-बोटी  करने वाले लोग शहजादे (कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी) के बड़े चहेते हैं। उन पर उन्हें ज्यादा ही प्यार आता है। याद रखियेगा वो बोटी-बोटी की धमकी देने वाले लोग हैं और हम बेटी- बेटी को सुरक्षा और सम्मान देने वाले लोग हैं।’’
मोदी ने कांग्रेस के घोषणापत्र को 'ढकोसला पत्र’ करार देते हुए कहा कि इस पार्टी ने वादा किया है कि बेटियों के साथ राक्षसी अपराध करने वालों को भी अब जेल से जमानत मिल  जाएगी। आप बताएं कि क्या ऐसे राक्षसों को जमानत मिलनी चाहिए? क्या देश ऐसे लोगों को माफ करेगा?
मोदी ने उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा-रालोद के गठबंधन पर तंज करते हुए कहा कि कुछ लोग अलग-अलग जातियों के नाम पर समाज और देश में खाई पैदा करने की कोशिश कर  रहे हैं। प्रदेश की जनता इन्हें पहले भी करार जवाब दे चुकी है। उन्होंने कांग्रेस पर पिछड़ा विरोधी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि संसद में राजीव गांधी ने मंडल कमीशन का  विरोध किया था। कांग्रेस को तो ओबीसी आयोग पर भी एतराज है। प्रधानमंत्री ने सितंबर 2013 में हुए मुजफ्फरनगर दंगों में प्रदेश की तत्कालीन सपा सरकार और केंद्र की  कांग्रेसनीत संप्रग सरकार की साजिश का आरोप लगाते हुए कहा, ''आपको अच्छी तरह पता है कि यहां भी देश को बांटने वाला खेल कैसे खेला जा रहा है। याद करिए कि जब दिल्ली  में महामिलावट की सरकार थी, और यहां सपा की सरकार थी, तब उन्होंने एक प्रयोग मुजफ्फरनगर में किया था। जात-पात के आधार पर कैसे कैसे जुल्म हुए। आप लोगों को यह
याद रखना चाहिए।’’

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget