हाइवे सील करने पर फिर तिलमिलाए महबूबा और फारूक

श्रीनगर
सुरक्षाबलों के काफिले को सुरक्षित मार्ग प्रदान करने के लिए जम्मूश्रीनगर-बारामूला नेशनल हाइवे पर हर हफ्ते दो दिन आम नागरिकों के लिए यातायात बंद रखने का फैसला रविवार  को लागू हुआ। हाइवे बंद होने से नागरिकों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा।
साथ ही विभिन्न राजनीतिक पार्टियों ने इस कदम का विरोध किया। सरकारी प्रशासन ने सुरक्षाबलों के काफिले को सुरक्षित मार्ग प्रदान करने के लिए 270 किलोमीटर लंबे राजमार्ग  पर आम नागरिकों के लिए यातायात 31 मई तक हर सप्ताह रविवार और बुधवार को बंद रखने की घोषणा पिछले सप्ताह की थी। सभी राजनीतिक दलों, व्यापारिक समुदाय के हर  तबके ने इसे 'जनविरोधी’ और 'अलोकतांत्रिक’ बताते हुए इसकी आलोचना की। पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने भी प्रतिबंध के खिलाफ विरोध मार्च निकाला। उन्होंने कहा कि यह बेहद  गलत है। वहां हमारी कोई व्यावसायिक सेना नहीं है। अगर भारत सरकार को लगता है कि इस तरह के हथकंडे अपना कर वे यहां के लोगों को दबा सकते हैं, तो वे गलत हैं। दूसरी  ओर नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने प्रतिबंधों को तत्काल वापस लेने की मांग की है, जबकि पीडीपी प्रमुख महबूबा मुक्ती ने सरकार के फैसले को 'गलत’ करार दिया।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget