अंतरिक्ष में भारत बना 'बाहुबली’

नई दिल्ली
भारत द्वारा अपने एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराने के बाद अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी की तरफ से खतरे की आशंका जताने और कई तरह के सवाल खड़े होने के बाद शनिवार को  रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन ने मिशन शक्ति को लेकर स्थिति स्पष्ट की। एजेंसी के चीफ जी. सतीश रेड्डी ने साफ कहा कि 45 दिनों के भीतर सभी मलबा नष्ट हो जाएगा।  बताया गया कि मिशन शक्ति को पीएम मोदी ने 2016 में हरी झंडी दी और रेकॉर्ड 2 साल में करीब 150 वैज्ञानिकों ने इस प्रोजे€ट को सफलतापूर्वक पूरा किया। रेड्डी ने कहा कि  भारत ने इस तरह का कदम उठाते हुए टारगेट को नष्ट करने की क्षमता दिखाई तो हमने ऐसे ऑपरेशंस के लिए अपनी क्षमता साबित की है। डीआरडीओ चीफ ने कहा कि डिफेंस का सबसे अच्छा तरीका डिटरेंस है। मिशन शक्ति पर रेड्डी ने कहा कि देश ने जमीन से ही सीधे टारगेट को हिट करने की अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया है और यह डिफेंस के लिए  भी काम करता है। उन्होंने कहा कि मिलिटरी डोमेन में भी स्पेस का महत्व बढ़ा है।
कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करते हुए कहा था कि एक बुद्धिमान सरकार अपनी क्षमता को सीक्रेट रखती है, केवल मूर्ख सरकार ही  डिफेंस सीक्रेट का खुलासा करती है। उन्होंने यह भी कहा था कि भारत के पास कई वर्षों से सैटेलाइट को मार गिराने की क्षमता मौजूद है। चिदंबरम के बयान पर सतीश रेड्डी ने कहा  कि टेस्ट होने के बाद इस तरह के मिशन को सीक्रेट नहीं रखा जा सकता। सैटेलाइट को दुनियाभर में कई स्टेशनों द्वारा ट्रैक किया जाता है। इसके लिए सभी आवश्यक अनुमति ले  ली गई थी।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget