कांग्रेस का घोषणापत्र 'देश तोड़ने का एजेंडा’

नई दिल्ली
कांग्रेस पार्टी ने मंगलवार को जारी किए अपने चुनावी घोषणापत्र को 'जन आवाज’ नाम दिया पर कुछ ही घंटे में भाजपा ने इस पर गंभीर सवाल खड़े कर दिए। पार्टी के वरिष्ठ नेता  और केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि कांग्रेस पार्टी खतरनाक वादे कर रही है और उसके मेनिफेस्टो में ऐसा अजेंडा है, जो देश को तोड़ने का काम करते हैं। उन्होंने कहा कि इसमें  कुछ वादे तो ऐसे हैं जिन्हें लागू ही नहीं किया जा सकता। बता दें कि कांग्रेस ने 'हम निभाएंगे’ के वादे के साथ न्यूनतम आय योजना, रोजगार सृजन और किसानों के लिए अलग  बजट सहित कई बड़े एलान किए हैं। इस पर जेटली ने कहा कि कांग्रेस के घोषणापत्र में ऐसी बातें हैं, जो देश की एकता के खिलाफ हैं।

नासमझी में किए बड़े वादे : जेटली

जेटली ने कहा कि नेहरू-गांधी परिवार की जम्मू और कश्मीर को लेकर जो ऐतिहासिक भूल थी, उसके लिए माफ नहीं किया जा सकता, पर अब उस एजेंडे को ये आगे बढ़ा रहे हैं।  कांग्रेस की तरफ से किए गए बड़े-बड़े वादे नासमझी में किए गए हैं। जेटली ने आरोप लगाया कि कांग्रेस का आज का नेतृत्व जिहादियों और माओवादियों के चंगुल में है। वे घोषणापत्र  में कह रहे हैं कि आईपीसी से सेक्शन 124-ए हटा दिया जाएगा, राजद्रोह करना अब अपराध नहीं होगा। उन्होंने कहा कि जिस प्रावधान को इंदिरा, नेहरू, राजीव, मनमोहन ने छूने का  प्रयास नहीं किया, अब वे कह रहे हैं कि राजद्रोह का प्रावधान हटा दिया जाएगा। जो पार्टी इस तरह की घोषणा करती है, वह एक भी वोट की हकदार नहीं है।

जेटली का आमदनी वाले तर्क पर तंज

जेटली ने कहा कि इस पार्टी का इतिहास गरीबों के साथ नारों के जरिए खिलवाड़ करने का रहा है और देश उनकी बात सुनने को तैयार नहीं है। भाजपा नेता ने कहा कि 10 वर्षों तक  हम जब विपक्ष में रहे तब जब भी यूपीए सरकार का बजट पेश किया जाता था, तब इसका असली मंतव्य हमेशा इसके विस्तार में जाने पर ही पता चलता था। जेटली ने सवाल  उठाया कि कांग्रेस ने स्पष्ट नहीं किया है कि वह पैसा कहां से लाएंगे। जेटली ने कहा कि यही सोचकर 80 के दशक में राजीव और इंदिरा ने एक गैरजिम्मेदाराना काम किया था। आमदनी बढ़ाई नहीं और खर्चा बढ़ा दिया। बाद में देश को बचाने के लिए मनमोहन सिंह को ढूंढ़कर लाना पड़ा।

टुकड़े-टुकड़े गैंग का घोषणापत्र

जेटली ने कहा कि वैसे तो एक ड्राफ्टिंग कमिटी थी, लेकिन ऐसा लगता है कि जम्मू और कश्मीर से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्वाइंट्स की ड्राफ्टिंग कांग्रेस अध्यक्ष के 'टुकड़े-टुकड़े गैंग’ के  दोस्तों ने तैयार की है। सशस्त्र बल विशेष अधिकार कानून को लेकर कांग्रेस के वादे पर जेटली ने पलटवार किया। उन्होंने कहा कि घोषणापत्र में कहा गया है कि रूल्स, रेग्युलेशंस की  समीक्षा की जाएगी। 72 वर्षों में भारत को दुनिया में सबसे अधिक आतंकवाद झेलना पड़ा है। जो देश को तोड़ना चाहते थे, वे देश में पहले से ही सक्रिय थे। उन्होंने कहा कि हमने  जम्मू- कश्मीर, दक्षिण, मध्य, पूर्वोत्तर और पंजाब में अलगाववादी और हिंसक आंदोलन देखे हैं। अब इस समस्या को कई क्षेत्रों में काफी हद तक काबू कर चुके हैं। हमने जम्मू- कश्मीर का बड़ा हिस्सा खोया। राहुल खतरनाक खेल खेल रहे हैं।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget