कांग्रेस-राकांपा स्पष्ट करें अपनी भूमिका : भंडारी

मुंबई
अपने घोषणापत्र में सरकार बनने के बाद देशद्रोह का गुनाह रद्द करने का वादा करने वाली कांग्रेस पार्टी जम्मू-कश्मीर और छतीसगढ़ में हुए आतंकवादी हमले पर चुप क्यों है? बुधवार को कांग्रेस और राकांपा पर हमला बोलते हुए भाजपा के मुख्य प्रवक्ता माधव भंडारी ने यह बात कही। भंडारी ने कहा कि मंगलवार को देश में दो बड़े आतंकवादी हमले हुए, जिसमें  जम्मू- कश्मीर में आतंकवादियों ने आरएसएस के स्वयंसेवी की हत्या तो दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ में नक्सलवादियों ने भाजपा के विधायक सहित कई अन्य लोगों की निर्मम हत्या कर  दी। लेकिन इन दो बड़ी दुर्घटनाओं के बाद भी विपक्षी कांग्रेस और राकांपा ने इस पर विरोध तक नहीं जताया जो दुर्भाग्यपूर्ण है। माधव भंडारी ने कहा कि नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुला जम्मू-कश्मीर में स्वतंत्र प्रधानमंत्री बनाने की बात कर रहे हैं, जिनके साथ कांग्रेस और राकांपा ने महागठबंधन किया है। भंडारी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने अपने  घोषणापत्र में सरकार आने के बाद देशद्रोही विरोधयों पर गुनाह न दाखिल करने का वादा किया है। हम उनसे पूछना चाहते है कि देश में विभिन ठिकानों पर हिंसा करवाई जाती है।  हिंसा करवाने वालों के खिलाफ क्या देशद्रोह का मामला दर्ज नहीं होना चाहिए? इस पर कांग्रेस और राकांपा अपनी भूमिका स्पष्ट करें।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget