आप ने बनारस से बनाई दूरी

वाराणसी
2014 का लोकसभा चुनाव खास कारणों से चर्चित रहा। वाराणसी संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी नरेंद्र मोदी के खिलाफ आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल मैदान में  थे। उनके समर्थन में पूरी पार्टी थी। चुनाव प्रचार इतना आक्रामक था कि भाजपा छोड़ अन्य दल पीछे हो गए। इस बार आम आदमी पार्टी का नाम तक लेने वाला कोई नहीं है। 2014  के चुनाव की यादें लोगों के जेहन में आज भी ताजा है। अन्ना के आंदोलन से उपजी आम आदमी पार्टी को लेकर युवाओं और समाज के बौद्धिक तबके में जबरदस्त क्रेज था। पार्टी के  साथ उनकी सहानुभूति थी। कई लोगों ने आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं को रहने के लिए अपना घर दे दिया था। उनसे कोई किराया नहीं लिया गया। गांव से गली तक उनके  कार्यालय खुले हुए थे। आप के दिग्गज नेता मनीष सिसोदिया, संजय सिंह, कुमार विश्वास, आशुतोष सहित कई अन्य बनारस में डेरा जमाए हुए थे। गांव-गांव और गली-गली की  खाक छान रहे। यहां तक की कई एनआरआई यहां चुनाव प्रचार के लिए आए थे। आप की प्रचार शैली भी आकर्षण का केंद्र थी। हाथ में झाड़ू और सिर पर टोपी लगाए कार्यकर्ता कड़ी  धूप में डिवाइडर पर घंटों खड़े रहते थे। आते-जाते लोगों से केजरीवाल के लिए वोट मांगते थे। केजरीवाल की रोजाना तीन से चार नुक्कड़ सभाएं होती। इस चुनाव ने पूर्वांचल में आम  आदमी पार्टी की पहचान बना दी थी। भदोही को छोड़कर वाराणसी के अलावा गाजीपुर, जौनपुर, चंदौली, बालिया, आजमगढ़, लालगंज, सलेमपुर, मऊ, घोसी से भी प्रत्याशी खड़े किए  थे। भदोही से पार्टी के प्रत्याशी का पर्चा खारिज हो गया था। जौनपुर से केपी यादव चुनाव लड़े। उन्हें करीब 48 हजार वोट मिले। इस बार सिर्फ लालगंज संसदीय क्षेत्र से पार्टी का  प्रत्याशी है। 2019 के चुनाव में पूर्वांचल की संसदीय सीटों पर पार्टी द्वारा रुचि न दिखाए जाने से कार्यकर्ताओं ने निराशा है।
2014 में अरविंद केजरीवाल के चुनाव की कमान संभालने वाले पूर्वांचल प्रभारी संजीव सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उनका कहना है कि पूर्वांचल में पार्टी की पहचान बनी  थी। मगर कार्यकर्ताओं की भावनाओं को अनसुना कर दिया। वे मायूस हैं। अगर नेतृत्व पूर्वांचल को महत्व देता और सक्रिय रहता तो स्थिति कुछ और होती।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget