2019 में भाजपा को 2014 से ज्यादा सीटें मिलेंगी : शाह

नई दिल्ली
इस बार के लोकसभा चुनाव में 2014 की तुलना में भाजपा की सीटें बढ़ने का विश्वास जताते हुए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि पार्टी 55 से अधिक नई सीटें जीतेगी और ये  बढ़त राष्ट्रीय सुरक्षा पर पार्टी के ध्यान केंद्रित करने तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशभर में स्वीकार्यता के कारण होगी। शाह ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की आलोचना करने पर  प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा को भी आड़े हाथ लिया और कहा कि वे जितनी भी कोशिश कर लें, अपने  अतीत से पीछा नहीं छुड़ा सकते। भाजपा अध्यक्ष ने चुनाव के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की, जहां बंटा हुआ विपक्ष भाजपा नीत राजग के खिलाफ मुकाबले में है और जहां सत्तारूढ़  गठबंधन राष्ट्रवाद तथा विकास के मुद्दों पर फिर से सत्ता पर काबिज होने की उम्मीद कर रहा है।
भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनाव में पहली बार अपने दम पर बहुमत हासिल किया था और 543 सीटों में से वह 282 पर जीती थी। इस बार भी अपने दम पर बहुमत प्राप्त  करने का विश्वास जताते हुए शाह ने कहा कि वह तटीय और पूर्वी राज्यों तक भाजपा का आधार बढ़ाने की अपनी योजना में सफल रहे हैं, जहां पार्टी परंपरागत रूप से कमजोर 
रही है।
पश्चिम बंगाल में 23, ओडिशा में 13 से 15 सीटों पर विजय उन्होंने कहा कि पार्टी पश्चिम बंगाल में 23 से अधिक सीटें जीतेगी, वहीं ओडिशा में 15 तक सीटों पर विजय प्राप्त  करेगी। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा इन दोनों राज्यों में क्रमश: दो और एक सीट ही जीत पाई। भाजपा अध्यक्ष बनने के बाद शाह ने देशभर में 120 सीटें ऐसी चिह्नित की थीं  जिन पर जीत की संभावना अधिक है।

2014 में इन सीटों पर पार्टी हार गई थी।
शाह ने कहा कि भाजपा इनमें से 55 से अधिक सीटों पर जीत हासिल करेगी। 2014 के चुनाव की तरह ही क्या इस बार भी पार्टी उत्तर और पश्चिम भारत में अन्य दलों का लगभग सूपड़ा साफ कर पाएगी, इस प्रश्न के उत्तर में भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कुछ सीटें इधर-उधर जा सकती हैं, लेकिन पार्टी को कुल मिलाकर बहुमत मिलेगा।  पूर्व प्रधानमंत्री  राजीव गांधी पर बयान के लिए कांग्रेस के शीर्ष नेताओं द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की पृष्ठभूमि में शाह ने कहा कि उनकी या जवाहरलाल नेहरू की आलोचना क्यों  नहीं हो सकती। केवल इसलिए क्योंकि वे गांधी परिवार से हैं। क्या बोफोर्स घोटाला उनके (राजीव गांधी के) समय नहीं हुआ था?
शाह ने कहा कि क्या बोफोर्स घोटाला उनके (राजीव गांधी के) समय नहीं हुआ था? क्या भोपाल गैस त्रासदी का आरोपी उनके समय नहीं भागा था? इन मुद्दों पर बहस क्यों नहीं होनी  चाहिए? राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा जितनी कोशिश कर लें, अपने अतीत से पीछा नहीं छुड़ा सकते। प्रधानमंत्री मोदी ने एक सभा में राजीव गांधी को भ्रष्टाचारी नंबर एक की  संज्ञा दी थी। भाजपा अध्यक्ष ने राहुल गांधी के इस दावे के लिए भी उन पर चुटकी ली कि मोदी को अपना बोरिया-बिस्तर बांध लेना चाहिए। शाह ने कहा कि 23 मई आने दीजिए  और तब देखेंगे कि कौन बोरिया-बिस्तर बांधता है?

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget