सात राज्योंकी 59 सिटों पर आज मतदान

नई दिल्ली
लोकसभा चुनाव के छठे चरण में मतदाता आज 7 राज्यों की कुल 59 सीटों पर 979 उम्मीदवारों में अपने सांसद चुनेंगे। बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश में जहां यह वोटिंग  का एक अन्य चरण होगा, वहीं दिल्ली और हरियाणा की सभी सीटों पर इस फेज में वोट डाले जाएंगे। त्रिपुरा वेस्ट लोकसभा सीट के तहत 26 विधानसभा क्षेत्रों की 168 सीटों पर  आज ही पुनर्मतदान भी होगा। त्रिपुरा वेस्ट में पहले चरण में यानी 11 अप्रैल को वोटिंग हुई थी, लेकिन चुनाव आयोग ने उसे रद्द घोषित कर दिया था।
भाजपा को बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद भाजपा ने 2014 में 35.8 प्रतिशत वोट शेयर के साथ इन 59 सीटों में से 44 पर जीत दर्ज की थी, हालांकि बाद में एक सीट पर उपचुनाव में  हार गई थी। इस चरण में भाजपा का वोट शेयर 2014 में उसके नेशनल वोट शेयर 31 प्रतिशत से करीब 5 प्रतिशत ज्यादा रहा था। उसकी सहयोगी एलजेपी ने भी एक सीट जीती  थी। इसका मतलब है कि इस चरण में भाजपा को ही सबसे ज्यादा सीटों को बचाने की चुनौती है। इन 59 सीटों में टीएमसी के 8, कांग्रेस के 2, एसपी के 2 और आइएनएलडी के भी  2 मौजूदा सांसद हैं। भाजपा की सहयोगियों एलजेपी और अपना दल ने भी 1-1 सीट पर जीत हासिल की थी।

रोचक क्या है
दिल्ली में भाजपा, कांग्रेस और आप के बीच त्रिकोणीय लड़ाई है। 2014 में भाजपा ने दिल्ली की सभी 7 सीटों पर जीत हासिल की थी। पड़ोसी हरियाणा की 10 लोकसभा सीटों के  लिए भी आज वोट डाले जाएंगे, जहां के नतीजे इसी साल बाद में होने वाले विधानसभा चुनाव के संभावित नतीजे की झलक होंगे। हरियाणा में भाजपा ने पिछली बार 7 सीटों पर  कब्जा किया था। बिहार में भी भाजपा की लड़ाई बहुत बड़ी है। इस चरण में पार्टी ने 2014 में अपनी जीती हुईं 3 सीटों को सहयोगी जेडीयू को दिया है, जो पिछली बार उसकी प्रतिद्वंद्वी के तौर पर मैदान में थी।

प्रियंका की प्रतिष्ठा दांव पर
यूपी के पूर्वांचल की 14 सीटों पर भी आज वोटिंग हैं। यूपी में यह चरण भाजपा, कांग्रेस और एसपी-बीएसपी गठबंधन तीनों के लिए काफी अहम है। भाजपा ने पिछली बार यूपी की  इन 14 में से 12 सीटों पर कब्जा किया था। कांग्रेस के लिए भी पूर्वांचल काफी अहम है, क्योंकि 2009 में जब वह यूपी में जिन 21 सीटों पर जीती थी उनमें से 18 सीटें अकेले  पूर्वांचल की थीं। यहां कांग्रेस की बागडोर प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के हाथों में है। फूलपुर लोकसभा सीट जहां भाजपा ने पिछली बार जीत हासिल की थी, लेकिन 2018  उपचुनाव में हार गई थी, वहां भी आज ही वोटिंग है।

दिग्विजय बनाम प्रज्ञा मुकाबले पर देशभर की नजर
इस चरण में मध्य प्रदेश की 8 सीटों में से 7 पर भाजपा ने पिछली बार जीत हासिल की थी और बाकी एक सीट कांग्रेस के खाते में गई थी। इनमें से भोपाल पर देशभर की नजर  है। यहां मुकाबला कांग्रेस के कद्दावर नेता दिग्विजय सिंह और भाजपा की साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बीच है, जो 2008 के मालेगांव ब्लास्ट केस में आरोपी हैं। झारखंड में भी सत्ताधारी भाजपा को महागठबंधन से तगड़ी चुनौती मिल रही है, जहां कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा सहित 4 दल एक साथ हैं। बात अगर पड़ोसी पश्चिम बंगाल की करें, तो इस  चरण में यहां की 8 सीटों पर वोटिंग है। ये सभी सीटें झारखंड सीमा से सटे आदिवासी बेल्ट की हैं। 2014 में इन सभी 8 सीटों पर टीएमसी ने कब्जा किया था। हालांकि, 2018 के  पंचायत चुनावों में भाजपा ने यहां शानदार प्रदर्शन किया था।

इस चरण में 34 'रेड अलर्ट सीट'
छठे चरण की इन 59 सीटों में से 34 'रेड अलर्ट सीट' हैं, जिसका मतलब है कि इन सीटों पर प्रत्येक में 3 या उससे ज्यादा उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। चुनाव  लड़ रहे 20 फीसदी उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं, इनमें से सबसे ज्यादा भाजपा के 26 हैं। आपराधिक पृष्ठभूमि के उम्मीदवारों के मामले में कांग्रेस दूसरे (20)   और बसपा (19) तीसरे नंबर पर है। इस चरण में कुल 54 उम्मीदवार करोड़पति हैं, जिनमें से 46 उम्मीदवार अकेले भाजपा के हैं। छठे चरण में चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों की औसत  संपत्ति 3.41 करोड़ है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget