अभूतपूर्व और ऐतिहासिक विजय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने गुरुवार को एक नया इतिहास रच दिया। जिसने पूरी विपक्ष को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष घेराबंदी को धूल चटाते हुए एनडीए  ने दूसरी बार लगातार सफलता हासिल की और देश के इतिहास में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया। आज राजग जिस मुकाम पर है, यह एक तरह से राजग की नरेंद्र मोदी नीति  केंद्र सरकार द्वारा अपनाई गई नीतियों का प्रतिफल है, जो एक तरह से देश के चौमुखी विकास के लिए, विदेशी मामलों पर और कूटनीतिक फ्रंट पर अब तक मोदी द्वारा अपनाई  गई नीतियों का एक ऐसा सशक्त जन अनुमोदन है, जिसने कांग्रेस सहित पूरे विपक्ष को अचकचा कर रख दिया है। विपक्ष के बड़े-बड़े सूरमा खेत रहे और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी  को तो अपनी अमेठी की सीट बचानी ही भारी पड़ गई और वहां से उन्हें पराजीत होना पड़ा। अब शायद गांधी परिवार को समझ आएगा कि सिर्फतिकड़म और अल्पसंख्यक प्रेम से  चुनाव नहीं जीते जा सकते। बुधवार तक मोदी को सत्ता से बेखल करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाने वाले चंद्रा बाबू नायडू जैसे नेता खुद अपने राज्य से ही बेदखल हो गए हैं   और उनका ही राजनीतिक भविष्य आज एक बड़ा प्रश्न चिन्ह बन गया है। नरेंद्र मोदी सरकार ने कई ऐतिहासिक पहल अपने इस कार्यकाल में की। सत्ता में रहते हुए दुबारा चुनाव  का सामना और चुनाव के दौरान जबरदस्त विरोध गोलबंदी और घेराबंदी के मध्य ऐसा प्रदर्शन जिसने विपक्ष की लगभग कमर तोड़ दी है। सरकार को अपनी भावी चुनौतियों का  सामना करने का न सिर्फ समर्थन प्रदान करता है, बल्कि ऐसा विश्व भी जगाता है जिस पर आरूढ़ होकर नई सरकार उन मुद्दों के समाधान के लिए और मजबूत कदम बढ़ा सकती  है, जो इस देश को दशकों से हलाकान किए हुए हैं। मसलन कश्मीर सहित कई मुद्दे जिन पर मौजूदा कार्यकाल में काफी सख्त कदम उठाए गए हैं और जिनका अच्छा परिणाम आ  रहा है आगे और गति प्राप्त करेंगे और उनका सही और स्थाई समाधान होगा। रही बात विपक्ष की, तो उसका जो हाल हुआ वह ताजुब करने जैसा नहीं है। देश की जनता ने मजबूत  सरकार का काम 1989 के बाद मोदी युग में पहली बार देखा। रही बात भानुमती के कुनबा की, तो गठबंधन सरकारों ने की तो इनका एक ओर अनेको देश कई बार देख चुके हैं। वह  जानता है कि ये गठजोड़ स्वार्थांध और अवसरवादी है। देश के कल्याण के बजाय ये अपनी राजनीतिक दुकान बनाने के लिए ज्यादा है और उसने इन्हें अपनी अवकात दिखा दी।  कारण उसे पता है कि अभी जो सवाल देश के सामने हैं, उसका वैसा समाधान मजबूत सरकार ने किया, वही कर सकती है। बैसाखियों वाली सरकार नहीं। कारण उसका ज्यादा समय  अपने को बचाने में जाता है, तो वह और काम कैसे करे। सफलता के लिए प्रधानमंत्री का नेतृत्व और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का संगठनात्मक कौशल और प्रबंध दोनों  साधुवाद के पात्र हैं। आज भारत दुनिया के आंख का तारा है और देश में भी हर मोर्चे पर काम दिख रहा है। एक नए भारत के निर्माण का जो कार्यक्रम प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में  शुरू हुआ है। आज उसकी गूंज देश और दुनिया में है और इससे देश का वजन और भाजपा का जनाधार दोनों बढ़ रहा है। अब मिला दोबारा मौका इसे अपने गंतव्य तक पहुंचाएगा।  इसमें कोई दो राय नहीं है कि भारत विश्व शक्ति और विश्व गुरु का अपना मुकाम हासिल करने के लिए तेजी से आगे बढ़ रहा है और वह मोदी की ही नेतृत्व में पूरा होगा। यह  जनसमर्थन का सैलाब है। जिसमें पूरा विपक्ष गले तक डूब गया है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget