दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे .....

नई दिल्ली
लोकसभा चुनाव के बीच नेता एक-दूसरे पर तीखे हमले कर रहे हैं। एक दिन पहले ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मोदी की दुर्योधन से तुलना की। उधर, तृणमूल कांग्रेस प्रमुख   और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि उनका मन प्रधानमंत्री मोदी को लोकतांत्रिक थप्पड़ मारने का करता है। इन दोनों बयानों पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने  दो ट्वीट किए। एक में उन्होंने प्रियंका को राहुल का अहंकार याद दिलाया, तो दूसरे ट्वीट में ममता को नसीहत दी है।
प्रियंका ने मंगलवार को हरियाणा में चुनावी सभा में मोदी पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि देश ने अहंकार को कभी माफ नहीं किया। ऐसा अहंकार दुर्योधन में भी था। वे बोलीं, 'जब  भगवान कृष्ण उन्हें समझाने के लिए गए थे, तब दुर्योधन ने उन्हें बंधक बनाने की कोशिश की।' प्रियंका ने रामधारी सिंह दिनकर की कविता भी पढ़ी-जब नाश मनुज पर छाता है,  पहले विवेक मर जाता है...।

सुषमा ने पूछा-अहंकारी कौन?
प्रियंका जी-आज आपने अहंकार की बात की। मैं आपको याद दिला दूं कि अहंकार की पराकाष्ठा तो उस दिन हुई थी, जिस दिन राहुल जी ने अपने ही प्रधान मंत्री डॉ. मनमोहन सिंह  जी का अपमान करते हुए राष्ट्रपति द्वारा जारी अध्यादेश को फाड़ कर फेंका था। कौन किसको सुना रहा है?

सुषमा स्वराज की ममता को नसीहत
ममता जी-आज आपने सारी हदें पार कर दीं। आप प्रदेश की मुख्यमंत्री हैं और मोदी जी देश के प्रधान मंत्री हैं। कल आपको उन्हीं से बात करनी है। इसलिए बशीर बद्र का एक शेर
याद दिला रही हूं-
दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे,
जब कभी हम दोस्त हो जाएं तो शर्मिंदा न हों।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget