पानी और ट्रैफिक की समस्या दूर करना पहली प्राथमिकता : प्रवीण परदेशी

पानी की समस्या को दूर करने के लिए दूरगामी उपाय क्या हैं?
पानी की समस्या को दूर करने के लिए सबसे पहले मुंबई में हो रही कुल जलापूर्ति 3850 एमएलडी का 70 प्रतिशत पानी समुद्र में फेंक दिया जाता है। उस पानी को ट्रीट कर दोबारा  किस तरह उपयोग में ला सकें, इस पर मेरा पहला फोकस होगा। उपयोग किया हुआ पानी बिना ट्रीट किए समुद्र में छोड़े जाने से उसका पर्यावरण पर प्रभाव पड़ ही रहा है, लेकिन   पानीका दुरुपयोग भी हो रहा है। पानी का दोबारा इस्तेमाल हो, इसके लिए ट्रीट करने पर अधिक ध्यान दिया जाएगा और इसके दोबारा इस्तेमाल के लिए सभी जगहों पर डबल पाइप  लाइन की व्यवस्था करनी जरूरी होगी।

ट्रैफिक की समस्या को दूर करने के लिए क्या योजना है?
मुंबई अंतर्राष्ट्रीय शहर की तरह है। मुंबई में रहने वाले हर नागरिक को मुंबई अपना शहर लगता है। ट्रैफिक की समस्या दूर करने के लिए हमें अपनी ट्रांसपोर्ट व्यवस्था सुधारनी  होगी, जिसके लिए राज्य सरकार द्वारा सराहनीय कदम उठाते हुए मेट्रो का जाल बिछाया जा रहा है। शहर में आने वाली गाड़ियों की संख्या कम करने के लिए पे एंड पार्किंग की  व्यवस्था में बदलाव करने की जरूरत है। मुंबई के निवासियों को सस्ते दर में पार्किंग की सुविधा देनी चाहिए, जबकि बाहर से आने वाले वाहनों से अधिक पार्किंग शुल्क वसूल किया  जाना चाहिए, जिससे वाहनों की संख्या कम होगी और लोग ट्रांसपोर्ट का अधिक उपयोग करेंगे। स्थानीय लोगों के पास एक से अधिक वाहन होने पर उनसे अधिक शुल्क लिए जाने  का प्रावधान किया जा सकता है, जिससे लोगों में नाराजगी नहीं होगी। जिस इमारत में पार्किंग की व्यवस्था नहीं है, पुरानी इमारत है, उन्हें कुछ छूट दी जा सकती है।

ट्रांसपोर्ट सुविधा सुधारने की बात हो रही है, लेकिन बेस्ट की हालत खस्ता होती जा रही है। क्या बेस्ट की सहायता करेंगे? 
बेस्ट की वजह से मुंबई की एक अलग पहचान है। बेस्ट  मुंबई के लिए सख्त जरूरत है। बेस्ट में पांच हजार बसें हैं, जिसकी संख्या कम है। इस समस्या को दूर करने के लिए कदम उठाया जाएगा और बेस्ट को मेट्रो और मोनो सहित  उपनगरीय सेवा से जोड़कर उसका घाटा किस तरह कम हो, यह मेरी प्राथमिकता होगी। ट्रांसपोर्ट विभाग कहीं फायदे का नहीं होता। हमें उसमें सुधार लाने की जरूरत है। बेस्ट की  यूनियन से भी बेस्ट को बचाने के लिए चर्चा की जाएगी। वार्तालाप से ही सभी समस्याएं दूर होती हैं। बेस्ट में निजी संस्थाओं की बसें किराए पर लेकर सुविधाएं देना प्राथमिकता होगी।

कचरा मुंबई की बड़ी समस्या है, इसे कैसे हल करेंगे?

देखिए, मैं समझता हूं कि अब हमें कचरे का निपटारा खुद करना होगा। इसके लिए हम सबसे ज्यादा ध्यान कचरे को रिसाइकिल करने पर देंगे। हम कचरे का वर्गीकरण करते हुए  उसके रिसाइकिलिंग पर जोर देंगे। प्लास्टिक की बोतलों में सामान भरकर बेचने वालों को अनुमति तभी देंगे, जब वे उस प्लास्टिक की रिसाइकिलिंग का इंतजाम करें। इसी तरह हर  सोसाइटी को अपने कचरे का निपटारा खुद करने की व्यवस्था करनी होगी। अब खुले में कचरा फेंकना संभव नहीं रह गया। जब मैं पुणे में आयुक्त था, तब मैंने कचरा प्रबंधन पर  कार्य किया। इसके चलते मगरपट्टा सोसायटी अपना 100 प्रतिशत कचरा खुद ही निपटाती है। प्रॉपर्टी टैक्स कम करने के बारे में आप क्या सोचते हैं? मैं समझता हूं कि प्रॉपर्टी टैक्स  कम किया जा सकता है, पर इसके लिए हमें अपनी आय के दूसरे साधनों पर जोर देना होगा। अपने खर्च को सुनियोजित करना होगा। जब हम पानी और कचरे का सही प्रबंधन  कर सकेंगे तो पैसों की बचत होगी। ऐसे में प्रॉपर्टी टैक्स में कमी की जा सकती है। इसके अलावा हम पार्किंग से पैसे वसूलेंगे। मैं समझता हूं कि बड़ी-बड़ी गाड़ियां रखने वाले लोगों  को महंगी पार्किंग का पैसा देना ही चाहिए। इसके लिए हम बीच का रास्ता निकालेंगे। हम स्थानीय लोगों को एक पास देंगे। बाकी बाहर से आने वाले वाहनों से पार्किंग चार्ज वसूलेंगे।

मानसून करीब है, उससे कैसे निपटेंगे?
परदेशी ने कहा कि बारिश के समय लोगों को परेशानी न हो, इसके लिए वे विशेष तैयारियां करने जा रहे हैं। हाई फ्लड और रेनिंग की सही सूचना सही समय पर लोगों तक पहुंचाने  पर हमने जोर दिया है। इसके अलावा नाला सफाई सहित मानसून के समय किसी को परेशानी न हो, इसके लिए जल्द ही बैठक लेकर उसमें अगर कुछ नया करना होगा तो तत्काल  निर्णय लिया जायेगा और मुंबई के सभी प्राधिकरणों के साथ बैठक कर खामियां दूर की जाएंगी। किसी तरह की आपदा आने पर उसका परिणाम जनता को कम भुगतना पड़े, इस पर  ध्यान रखना होगा और डिजास्टर विभाग द्वारा पूरे शहर की जीआईएस मैपिंग की गई है, जिसका हम उपयोग करेंगे।

कोस्टल रोड को लेकर बड़े आरोप लग रहे हैं?
कोस्टल रोड का काम हम सभी विभागों से मंजूरी लेकर ही कर रहे हैं। नीदरलैंड शहर पूरी तरह रिक्लेम कर बसा हुआ है, लेकिन हमारे मच्छी का व्यवसाय करने वाले कोली भाइयों  को भी नुकसान न हो, इसका ख्याल रखा गया है। साथ ही मत्स्य व्यवसाय का नुकसान न हो, इस पर ध्यान दिया जाएगा।

कचरा मुंबई की जटिल समस्या हो गई है, इससे कैसे निपटेंगे?

कचरा डंपिंग ग्राउंड पर डंप नहीं होना चाहिए। कचरा जहां से पैदा हो रहा है, वहीं पर खत्म होगा तो तभी उसका अधिक उपयोग होगा। मुंबई में जगह की पहले से ही कमी है, जिसके  चलते लोगों के घरों से ही कचरा कम निकले, इसको लेकर कदम उठाया जाएगा। हम सबसे ज्यादा ध्यान कचरे को रिसाइकिल करने में देंगे। हम कचरे का वर्गीकरण करते हुए उसके  रिसाइकिलिंग पर जोर देंगे। इसके अलावा मुंबई के नए मनपा आयुक्त प्रवीण परदेशी ने पदभार संभालने के बाद कहा कि कुछ ही दिनों में मानसून आने वाला है। जिससे निपटना  हमारी पहली प्राथमिकता होगी। हमारा प्रयास रहेगा कि बारिश के दौरान लोगों को कम से कम तकलीफ हो। हमारा विभाग इसके लिए सतत तैयार है और हम बारिश में होने वाली  सारी चुनौतियों का डटकर सामना करने के लिए तैयार हैं।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget