पूनम की जीत को लेकर आश्वस्त हैं उत्तर मध्य के भाजपा कार्यकर्ता

मुंबई
सात चरणों में हो रहे वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव अंतिम पड़ाव पर हैं। एक तरफ जहां पूरे देश को 23 मई यानी चुनाव नतीजे के दिन का इंतजार है, वहीं देश की आर्थिक राजधानी मुंबई भी इससे अछूती नहीं है। मुंबई की छह लोकसभा सीटों में से उत्तर-मध्य लोकसभा सीट पर सबकी नजर टिकी हुई है। क्योंकि इस सीट पर दोबारा दो दिग्गज  नेताओं की बेटियां आमने -सामने हैं। परंतु 2014 के लोकसभा चुनाव में इस संसदीय क्षेत्र से नरेंद्र मोदी की लहर में भारी मतों से जीत हासिल करने वाली भाजपा युवा मोर्चा की  राष्ट्रीय अध्यक्ष पूनम महाजन 2019 के लोकसभा चुनाव में केंद्र और राज्य सरकार द्वारा किये गए विकास कार्यों के नाम पर चुनाव लड़ा है। उत्तर-मध्य लोकसभा सीट को लेकर  जानकार कहते हैं कि भाजपा के मजबूत संगठन और केंद्र और राज्य सरकार द्वारा किये गए विकास कार्यों को घरघर तक पुस्तिका बनाकर पूनम महाजन ने पहुंचाया है, उन्हें इसका बहुत ज्यादा फायदा होगा। वहीं प्रिया दत्त को लेकर लोग मानते हैं कि प्रिया दत्त ने चुनाव लड़ने का निर्णय देर से लिया। साथ ही कांग्रेस की गुटबाजी के कारण उनका नुकसान हो सकता है। उत्तर-मध्य लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाली छह विधानसभा सीटों में कुर्ला, बांद्रा पश्चिम, बांद्रा पूर्व, कालीना, चांदिवली और विलेपार्ले विधानसभा क्षेत्र हैं।  उत्तर-मध्य लोकसभा सीट मुंबई का एकमात्र ऐसा संसदीय क्षेत्र है, जहां दो दिग्गज महिलाएं चुनाव के मैदान में आमने-सामने हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में यहां की तत्कालीन  सांसद प्रिया दत्त को बांद्रा पश्चिम, विलेपार्ले, कालीना, बांद्रा पूर्व विधानसभा क्षेत्रों में कम वोट मिले थे, जिसके कारण प्रिया दत्त को हार का सामना करना पड़ा था, जबकि उस वक्त  केंद्र और राज्य में कांग्रेस और राकांपा की सरकार थी। लेकिन 2019 में केंद्र और राज्य में भाजपा और शिवसेना की सरकार है। 2014 और 2019 के बीच पिछले पांच वर्षों में  सरकार ने जो विकास कार्य किए हैं, उन्हीं को लेकर पूनम महाजन जनता के बीच गई हैं। परिणामत: पलड़ा पूनम महाजन की ओर झुकता नजर आ रहा है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget