कचरे से बिजली बनाने के लिये तीन कंपनीयां आईं आगे

मुंबई
देवनार डंपिंग ग्राउंड में मौजूद कचरे से बिजली पैदा करने के लिए तीन कंपनियां आगे आई हैं। मनपा प्रशासन ने कचरे से बिजली पैदा करने के लिए 2016 में निविदा मंगाई थी,  जिसमें विश्व स्तर तक की कंपनियों को शामिल होने की उम्मीद जताई गई थी। उसके अनुरुप नियमावली भी बनाई गई थी। इसके बावजूद इस परियोजना के लिए केवल तीन  कंपनियां सामने आईं, जो स्वदेशी हैं। बता दें कि मनपा ने देवनार डंपिंग ग्राउंड पर जमा हुए कचरे से बिजली पैदा करने की योजना बनाई थी। वर्ष 2016 में मनपा प्रशासन ने इसमें  विश्व स्तर की कंपनियों को शामिल करने के लिए निविदा प्रकिया शुरू की थी। बताया गया था कि इस परियोजना से देवनार डंपिंग ग्राउंड पर रोजाना 3000 मैट्रिक टन कचरे से  बिजली तैयार किया जाएगा। मनपा द्वारा 2016 में पहली बार निविदा मंगाना शुरू तो कर दिया, लेकिन निविदा को भरते समय उसमें नियमों को इतना कठोर किया गया था कि  टेंडर भरने में कंपनियों ने खासा दिलचस्पी नहीं दिखाई। इसके बाद मनपा प्रशासन ने नियमों में शिथिलता लाते हुए निविदा प्रक्रिया में बदलाव किया। मनपा ने इसमें रोजाना 600  मैट्रिक टन कचरे पर रोजाना प्रक्रिया कर बिजली पैदा करने के लिए संयंत्र लगाने के लिए निविदा को तैयार किया गया। मनपा के नए निवदा प्रक्रिया में अब तक तीन कंपनियां आगे  आई हैं। तीनों ही कंपनियां भारत की ही हैं। इनमें रेमकी, एसटू इंटरनेशनल और सुएज ऐसी शामिल है। तीनों कंपनियों के काजगात की छानबीन की जी रही है, जिसमें उनके काम करने की क्षमता और योग्यता पर विशेष रूप से ध्यान रखते हुए चुनाव किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि मुंबई में रोजाना 6500 मैट्रिक टन कचरा निकलता है, जिसमें 4900 मैट्रिक  टन कचरा कांजुर मार्ग डंपिंग ग्राउंड में डाला जाता है। यहां आने वाले कचरों पर प्रोसिंग कर उससे खाद बनाया जाता है, जबकि 1550 मैट्रिक टन कचरा अभी भी देवनार डंपिंग ग्राउंड  पर डाला जाता है।
मनपा कचरे से बिजली बनाने के लिए आगे आई तीनों कंपनियों के कागजातों की जांच करने के बाद अगस्त महीने तक इस पर ठोस निर्णय लिया जाएगा। मनपा देवनार डंपिंग  ग्राउंड पर 10 मेगावाट बिजली पैदा करना चाह रही है, जिससे मुंबई से निकलने वाले कचरे का कुछ हद तक निपटारा किया जा सके। मुंबई मनपा के सामने कचरा एक बड़ी समस्या बन गई है। मनपा को नए डंपिंग ग्राउंड के लिए अंबरनाथ में जगह भी उपलब्ध कराया गया है, लेकिन अभी मूल रूप नहीं ले पाया है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget