उज्वला योजना मे अब छोटा सिलिंडर भरवाना होगा अनिवार्य

नई दिल्ली
मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूजे) को और विस्तार दिया जाएगा। नई सरकार में 5 किलो के गैस सिलेंडर की आपूर्ति और उनके इस्तेमाल  पर जोर दिए जाने का अनुमान है। माना जा रहा है कि योजना से लाभान्वित महिलाओं ने भाजपा की अगुवाई वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के पक्ष में मतदान किया  और मोदी सरकार दोबारा सत्ता में आ गई। पीएमयूजे के तहत गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) के परिवारों को मुफ्त में गैस कनेक्शन बांटे गए। सारे कनेक्शन महिलाओं के नाम पर  ही दिए गए। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि योजना के तहत नई 8 करोड़ गैस कनेक्शन बांटे जाने का लक्ष्य सरकार के पहले 100 दिनों में पूरा कर लिया जाएगा। अब तक 7  करोड़ 19 लाख कनेक्शन दिए जा चुके हैं। यानी, 30 मई के बाद 100 दिनों के अंदर 81 लाख गैस कनेक्शन और बांटे जाएंगे। एक बार यह लक्ष्य पूरा हो जाने के बाद योजना के  तहत 5 किलो के छोटे सिलेंडर का इस्तेमाल अनिवार्य किए जाने का अनुमान है ताकि इसकी देशभर में इसकी उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके और एलपीजी रीफिल्स को बढ़ावा  मिल सके। सार्वजिक क्षेत्र की एक ऑयल मार्केटिंग कंपनी के अधिकारी ने बताया कि उज्ज्वला के तहत एलपीजी सिलेंडर साल में औसतन तीन बार ही भरवाए जा रहे हैं, जबकि  राष्ट्रीय औसत करीब सात का है। इसका बड़ा कारण शायद सिलेंडर की कीमत है, क्योंकि रीफिलिंग मुफ्त नहीं है। उन्होंने उम्मीद जताई कि योजना के तहत छोटे सिलेंडरों के  इस्तेमाल से स्थिति बदल सकती है। अभी दिल्ली में ग्राहकों को 14.2 किलो के बड़े सिलेंडर के लिए 712 रुपए देने होते हैं, जबकि डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) स्कीम के  तहत सब्सिडी के करीब 215 रुपए वापस बैंक अकाउंट में आ जाते हैं। अभी 5 किलो का सिलेंडर 260 रुपए में मिलता है और सब्सिडी के तौर पर जो बैंक अकाउंट में करीब 80 रुपए वापस आएंगे।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget