महीने भर काम करने के बावजूद नाले कचरे से लबालब

मुंबई
नालों की सफाई का काम शुरू हुए एक महीना बीत गया। इसके बावजूद शहर व उपनगरों की अधिकांश जगहों पर अभी भी कीचड़ भरा हुआ है। बुधवार को स्थाई समिति में विरोधी  पक्ष के नेता रविराजा ने यह आरोप लगाया, जिसका शिवसेना नेताओं ने भी कुछ हद तक समर्थन करते हुए कहा कि अभी ठीक से नाला सफाई नहीं हुई है। बरसात के पहले नालों  की सफाई नहीं हुई तो इस बार मुंबई थोड़ी सी बरसात में भी डूब जाएगी, यह बात कहते हुए विरोधी दल सहित सत्ताधारी दलों ने प्रशासन को जमकर लताड़ा। सभी सदस्यों की बातों  को सुनने के बाद 13 मई को नालों की सफाई के संबंध में रिपोर्ट पेश करने का आदेश स्थाई समिति के अध्यक्ष यशवंत जाधव ने प्रशासन को दिया। बुधवार को स्थाई समिति की  बैठक में विरोधी दल के नेता रवि राजा ने औचित्य के मुद्दे के तहत नालों की सफाई की वास्तविक जानकारी के संबंध में प्रशासन से जवाब मांगा। रवि राजा ने कहा कि इस बार नालों की सफाई का काम हर साल की अपेक्षा जल्द शुरू हुआ, पर उसके बावजूद अनेक जगहों पर नालों में कीचड़ है। 35 से 40 प्रतिशत नालों की सफाई होने का दावा प्रशासन की  ओर से किया जा रहा है, पर यह सच नहीं है।
रवि राजा ने कहा कि अधिकतर जगहों पर नालों में कीचड़ वैसा ही है। कुछ नाले कचरे से भरे हैं। महापौर के वार्ड में भी नाले कीचड़ से भरे हुए हैं। महीने भर से काम शुरू होने के  बावजूद नालों की सफाई नहीं हुई है। इस बार पहली बरसात में ही मुंबई पानी में डूब सकती है। आचार संहिता का कारण बताकर प्रशासन ठेकेदारों को बचाने की कोशिश कर रहा है।  सपा के रईस शेख ने कहा कि मुंबई में मेट्रो का काम चल रहा है। बीएमसी प्रशासन को मेट्रो के काम को देखना चाहिए,पर अभी तक देखा नहीं गया। ई वार्ड में रास्ते और नालों की  स्थिति अत्यंत दयनीय है। अगर बरसात में पानी भरा तो प्रशासन जिम्मेदार होगा। भाजपा और शिवसेना के नगरसेवकों ने भी काम को लेकर नाराजगी प्रकट की।
भाजपा की नगरसेविका राजेश्री शिवरडकर ने बताया कि एफ नार्थ में थोड़ी भी बरसात होने पर पानी भरता है। यहां अभी तक नाला सफाई नहीं हुई। कुछ जगहों पर नालों का कचरा बाहर निकाल कर रखा हुआ है, जिसे अभी तक नहीं उठाया गया है। इस कचरे को उठाना चाहिए वरना यह फिर से नालों में चला जायेगा। भाजपा के गटनेता मनोज कोटक ने कहा  कि नालों की सफाई के काम से आचार संहिता का क्या संबंध है। 23 मई तक रुकेंगे तो नालों की सफाई बरसात के पहले कैसे होगी। बीएमसी की अतिरिक्त आयुक्त अश्विनी जोशी  ने कहा कि सफाई का काम 35 से 40 प्रतिशत हुआ है। जहां कुछ कमी होती है, वहां के लिए प्रबंध किया गया है। 3 मई को आयुक्त के साथ हुई बैठक में बरसात के पहले सभी  काम पूरा करने का निर्देश दिया गया है। स्थाई समिति के अध्यक्ष यशवंत जाधव
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget