नामदार को शर्म आनी चाहीये

1984 दंगे के एक दोषी को फांसी के फंदे तक पहुंचाया, बाकियों को जल्द दिलायेंगे सज़ा


चंडीगढ़/बठिंडा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को चुनाव प्रचार के लिए पंजाब के बठिंडा पहुंचे। इस दौरान पीएम मोदी ने 1984 के दंगों को लेकर सैम पित्रोदा की टिप्पणी के जरिए राहुल गांधी पर  निशाना साधा। पीएम ने कहा कि 'नामदार' को शर्म आनी चाहिये । बठिंडा लोकसभा सीट से अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल मैदान में हैं। शिरोमणि अकाली दल सुप्रीमो  सुखबीर बादल, पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल, पंजाब भाजपा प्रदेशाध्यक्ष श्वेत मलिक व अन्य कई दिग्गज नेता इस समय मंच पर मौजूद थे।
पीएम मोदी ने बठिंडा में कहा कि मैं देख रहा था कि 'नामदार' ने अपने गुरु को कहा कि जो कुछ गुरु ने कहा उस पर उन्हें शर्म आनी चाहिए। मैं पूछना चाहता हूं कि 'नामदार' अपने  गुरु को किस बात के लिए डांटने का दिखावा कर रहे हो। क्या इसलिए क्योंकि जो कांग्रेस के दिल में हमेशा था। 'नामदार' परिवार की चर्चाओं में हमेशा था। 'नामदार' के गुरु ने  सार्वजनिक रूप से वो राज खुला कर दिया। क्या उसके लिए उन्हें डांट रहे हो क्या। क्या 'नामदार' के गुरु को घर की बात बाहर बताने के लिए डांटा जा रहा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को पंजाब के बठिंडा में एक जनसभा को संबोधित किया। रैली के दौरान प्रधानमंत्री कांग्रेस पर पूरी तरह हमलावर रहे। मोदी ने अपने भाषण में करतारपुर साहिब को पाकिस्तान के हिस्से में जाने को कांग्रेस की ऐतिहासिक गलती करार दिया। 1984 के सिख विरोधी दंगों का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने आजतक  सिर्फ कमिटी और कमिशन बनाकर मामले को रफा-दफा किया है, लेकिन हम दोषियों को सजा दिलाएंगे। पीएम मोदी ने कहा कि 1984 के सिख दंगों को आज 35 साल हो गए हैं।  कांग्रेस की करतूतों की वजह से आज तक इन दंगा पीड़ितों को जो न्याय मिलना चाहिए था, वह नहीं मिल पाया। पिछली कांग्रेस सरकारों ने सिर्फ कमिटी और कमिशन बनाए और  इतने गंभीर मामले को रफा-दफा करते रहे।'

जिन पर दंगों का आरोप लगा, कांग्रेस ने उन्हें बनाया सीएम
दंगों में जिन पर गंभीर आरोप लगा, उनको कांग्रेस ने केंद्र में मंत्री बनाया। चुनाव की बड़ी-बड़ी जिम्मेदारियां दीं, पंजाब का प्रभारी तक बनाया। जब विरोध हुआ तो फिर उनको हटाने  का ड्रामा किया। आज कांग्रेस ने उसी व्यक्ति को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बना दिया।
1984 के दंगों के आरोपियों को सजा दिलाने का वादा करते हुए उन्होंने कहा कि आपके चौकीदार ने आपसे न्याय का वादा किया था। बादल साहब के आशीर्वाद से मैं आज संतोष से  कह सकता हूं कि 1984 के दंगों के एक दोषी को फांसी के फंदे तक पहुंचाया है, कुछ को उम्रकैद हुई है और जो बाकी बचे हैं, उन्हें भी जल्द सजा मिलेगी।

क्या कहा था सैम पित्रोदा ने
बता दें कि 1984 के सिख दंगों को लेकर सैम पित्रोदा के 'हुआ तो हुआ' वाले बयान पर काफी विवाद हुआ। विवाद के बाद पित्रोदा ने शुक्रवार को माफी भी मांग ली। पित्रोदा ने कहा  कि मेरी हिंदी अच्छी नहीं है, इसलिए मेरे बयान को गलत ढंग से पेश किया गया। मेरे कहने का मतलब था कि जो हुआ वो बुरा हुआ, मैं अपने दिमाग में बुरा का अनुवाद नहीं कर  सका था। मैं इसके लिए माफी मांगता हूं। राहुल गांधी आज भी इस बयान पर न केवल सफाई देते दिखे, बल्कि कहा कि पित्रोदा को इस बयान पर शर्म आनी चाहिए और उन्हें  सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget