अफगानिस्तान को हल्के में ना आंकेंदूसरी टीमे

नई दिल्ली
विश्व कप में 2015 में पदार्पण के बाद से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में बड़ी छलांग लगाने वाली टीम अफगानिस्तान अगले सप्ताह शुरू हो रहे विश्व कप में अगर एक-दो बड़ी टीमों को  पटखनी देने में सफल रहे तो किसी को आश्चर्य नहीं होगा। विश्व कप में सभी टीम को एक दूसरे से भिड़ना है और ऐसे में कोई भी टीम उसे हल्के में नहीं लेना चाहेगी। 2015 में  अफगानिस्तान सिर्फ एक मैच में जीत दर्ज कर सका था, लेकिन उस समय राशिद खान जैसे मैच विजेता टीम में नहीं थे। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने भी माना की  अफगानिस्तान की टीम ने पिछले चार साल में काफी प्रगति की है। उन्होंने कहा कि अगर आप 2015 की अफगानिस्तान की टीम को देखेंगे तो अब टीम पूरी तरह से बदल गयी है। कोई भी टीम किसी को भी हरा सकती है। टीम के पास अब अनुभव है और आईसीसी विश्व कप क्वालीफायर में उसने वेस्टइंडीज को फाइनल सहित दो बार हराया था। विश्व कप  की तैयारियों के तहत अफगानिस्तान ने दक्षिण अफ्रीका में अभ्यास किया और फिर ब्रिटेन में स्कॉटलैंड और आयरलैंड के खिलाफ एकदिवसीय मैच खेले। टीम की तैयारियों को उस  समय झटका लगा जब लंबे समय से तीनों प्रारूप में कप्तानी कर रहे असगर अफगान को अचानक इस जिम्मेदारी से मुक्त कर दिया गया। वह हालांकि एकदिवसीय टीम में शामिल  हैं। मोहम्मद नबी और राशिद खान जैसे अनुभवी खिलाड़ियों ने भी विश्व कप से दो महीने पहले कप्तान बदलने पर सवाल उठाया था। बाद में चयनकर्ताओं ने उन्हें मना लिया। गुलबदिन नाएब को एकदिवसीय टीम का कप्तान बनाने से पहले कोच फिल सिमंस को भी भरोसे में नहीं लिया गया।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget