राकांपा छोड़ शिवसेना में शामिल हुए जयदत्त क्षीरसागर

मुंबई
लोकसभा चुनाव परिणाम आने के एक दिन पहले बीड के राष्ट्रवादी कांग्रेस विधायक जयदत्त क्षीरसागर शिवसेना में शामिल हो गए। दादर स्थित शिवसेना भवन में आयोजित कार्यक्रम में शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे ने उन्हें शिवबंधन बांधकर पार्टी में शामिल कर लिया। क्षीरसागर का कहना है कि राकांपा में जारी गुटबाजी से तंग आकर उन्होंने पार्टी  छोड़ने का निर्णय लिया है।
इस मौके पर क्षीरसागर ने कहा कि राकांपा छोड़ने का निर्णय उन्होंने पहले ही ले लिया था। बीड़ में जो नेता पार्टी को आगे बढ़ाने का काम कर रहे थे, उन्हें उखाड़ फेंकने का काम  पार्टी की तरफ से किया जा रहा था। उद्धव ठाकरे ने क्षीरसागर का शिवसेना में स्वागत करते हुए कहा कि आप अपनी इच्छा के अनुसार काम कर सकते हैं।
इसके पहले क्षीरसागर का कहना था कि पार्टी में अवहेलना की वजह से काफी दिनों से अंतर्द्वंद्व चल रहा था। कार्यकर्ता पूछ रहे थे कि मैं यह अन्याय कब तक सहन करुंगा।  उन्होंने कहा कि जहां स्वाभिमान को ठेस पहुंचती है, वहां रहना ठीक नहीं है। लोकसभा चुनाव में जयदत्त क्षीरसागर ने एनडीएन को समर्थन दिया है। उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष को  अपना इस्तीफा सौंप दिया है। कुछ दिनों पहले जयदत्त क्षीरसागर ने मातोश्री जाकर शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी। इसके पहले उन्होंने राकांपा से विद्रोह करते  हुए बीड से भाजपा की लोकसभा उम्मीदवार प्रीतम मुंडे को विजयी बनाने का आदेश अपने कार्यकर्ताओं को दिया था। क्षीरसागर का पार्टी बदलने का यह मामला ऐसे समय सामने  आया है, जब राकांपा प्रमुख शरद पवार विपक्षी दलों को एकजुट करने में जुटे हुए हैं। बता दें कि बीड़ जिले के छह विधानसभा क्षेत्रों में जयदत्त क्षीरसागर अकेले राकांपा विधायक हैं।  बाकी सीटों पर भाजपा का क जा है। बताया जा रहा है कि क्षीरसागर की नाराजगी उनकी अनदेखी और उनके स्थानीय प्रतिद्वंदी धनंजय मुंडे को अधिक महत्व देने को लेकर बताई  जा रही है। इसके पहले प्रियंका चतुर्वेदी कांग्रेस छोड़कर शिवसेना में शामिल हुई थीं। उन्होंने नाराजगी के चलते पार्टी छोड़ी थी। उस वक्त वह पार्टी की प्रवक्ता के तौर पर काम कर रही थीं।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget