भीषण गर्मी का प्रकोप : पारा 48 डिग्री के पार

लखनऊ
गर्म शुष्क पछुआ हवाओं के कारण पूरा प्रदेश भीषण गर्मी का प्रकोप झेल रहा है। अधिकतम तापमान 48 डिग्री से ऊपर जा चुका है। सुबह से ही जहां गर्मी अपना असर दिखा रही  है। वहीं दोपहर होते-होते लू के थपेड़ों के कारण लोगों का बाहर निकलना मुश्किल हो रहा है। इसके बाद रात में भी गर्मी का असर बना हुआ है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले  48 घंटों के दौरान पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में भीषण गर्मी और लू का असर देखने को मिल सकता है। इसके बाद मामूली राहत मिलने के आसार  हैं। मौसम विभाग के मुताबिक एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिणपूर्वी उत्तर प्रदेश के भागों पर बना हुआ है। इसके अलावा पश्चिमी उत्तर प्रदेश से दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश पर बने  चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र, झारखंड, पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश से होते हुए मणिपुर तक एक ट्रफ रेखा फैली हुई है। वहीं उत्तर प्रदेश से मध्य प्रदेश और विदर्भ होते हुए उत्तर-पूर्वी  कर्नाटक तक एक उत्तर-दक्षिणी ट्रफ रेखा फैली हुई है।
आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि शुक्रवार को आगरा का न्यूनतम तापमान 27 डिग्री और अधिकतम तापमान 45 डिग्री, अलीगढ़ का न्यूनतम  तापमान 27 डिग्री और अधिकतम तापमान 44 डिग्री, प्रयागराज का न्यूनतम तापमान 27 डिग्री और अधिकतम तापमान 48 डिग्री, बहराइच का न्यूनतम तापमान 26 डिग्री और  अधिकतम तापमान 42 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके अलावा बांदा का न्यूनतम तापमान 27 डिग्री और अधिकतम तापमान 47 डिग्री, बरेली का न्यूनतम तापमान 25 डिग्री  और अधिकतम तापमान 43 डिग्री, गोरखपुर का न्यूनतम तापमान 27 डिग्री और अधिकतम तापमान 42 डिग्री, झांसी का न्यूनतम तापमान 29 डिग्री और अधिकतम तापमान 46  डिग्री, कानपुर का न्यूनतम तापमान 24 डिग्री और अधिकतम तापमान 44 डिग्री, लखनऊ का न्यूनतम तापमान 25 डिग्री और अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
वहीं मेरठ का न्यूनतम तापमान 26 डिग्री और अधिकतम तापमान 43 डिग्री, मुरादाबाद का न्यूनतम तापमान 25 डिग्री और अधिकतम तापमान 42 डिग्री और वाराणसी का न्यूनतम  तापमान 25 डिग्री और अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के मुताबिक उत्तर पछुआ हवाओं और ड्राई वेदर कंडीशन के कारण पूरा प्रदेश गर्मी से  जल रहा है। रविवार से बिहार के आसपास सक्रिय मौसमी सिस्टम से तराई के इलाकों समेत पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई क्षेत्रों में गरज चमक के साथ आंधी चल सकती है। इसके साथ  ही बदली छायी रहने की संभावना है। विंड पैटर्न बदलने की वजह से लू के तेवर कुछ कमजोर पड़ेंगे और तापमान में मामूली राहत मिल सकती है। मौसम विभाग ने प्रदेश में  मानसून के देरी से पहुंचने की स भावना जतायी है। पिछले चौबीस घंटो के दौरान प्रदेश में न्यूनतम तापमान गोरखपुर में 23.7 डिग्री और अधिकतम तापमान प्रयागराज में 48.6  डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इस पारे के साथ प्रयागराज में मई में गर्मी पड़ने का 25 साल पुराना रिकॉर्ड टूट गया है। इसके पहले 30 मई 1994 में अधिकतम तापमान 48.4  डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया था। वहीं अगले चौबीस घंटों में राजधानी और उसके आसपास के क्षेत्र में मौसम शुष्क बना रहेगा।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget