मुलायम की समधन सहित चार अफसरों पर 50-50 लाख जुर्माने की तलवार

लखनऊ
प्रदूषित हो रहे गोमती नदी तट की अनदेखी करना नगर निगम के चार अफसरों पर भारी पड़ सकता है। एनजीटी की तरफ से नगर आयुक्त पर लगाए गए दो करोड़ के जुर्माना  वसूलने की सिफारिश पर अब गेंद जिम्मेदार अधिकारियों के पाले में डालने की तैयारी है। यह रकम इन अधिकारियों से वसूली जा सकती है। इन अधिकारियों में जोनल अधिकारीछह
अंबी बिष्ट भी शामिल हैं, जो पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की समधन हैं। गोमती नदी तट की बद से बदतर होती रही जा रही दशा पर एनजीटी लगातार कार्रवाई कर रहा है।नगर आयुक्त डॉ. इंद्रमणि त्रिपाठी ने इन चारों अधिकारियों को नोटिस जारी करते हुए जवाब मांगा है कि उनसे 50-50 लाख का जुर्माना वसूलने के लिए शासन से सिफारिश ख्यों न कर दी जाए। नगर आयुक्त की तरफ से यह नोटिस भी मंगलवार देर शाम जारी कर दिया गया। नगर निगम में तैनात इन अफसरों में हड़कंप मच गया। नगर निगम  धिकारियों की अनदेखी से गोमती तट कूड़ादान बन गया है। इससे नाराज होकर ही एनजीटी ने नगर आयुक्त से दो करोड़ का जुर्माना वसूलने की सिफारिश की थी। उन पर यह आरोप लगाया था कि नगर निगम गोमती नदी तट को प्रदूषित कर रहा है और इससे नदी जल भी प्रदूषित हो रहा है। इसके बाद नगर आयुक्त ने खुद गोमती तट का भ्रमण किया और पाया कि नगर निगम के अधिकारियों की लापरवाही से ही गोमती तट प्रदूषित हो रहा है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget