गडकरी ने बनाया 65 हजार किमी लंबा नेशनल हाइवे

नई दिल्ली
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि भारतमाला प्रोजेक्ट के पहले चरण के तहत 65 हजार किमी लंब नेशनल हाईवे बनाया गया है। साथ ही साल 2022 तक नेशनल हाईवे  अथॉरिटी ऑफ इंडिया 34800 किमी हाईवे बनाया जाएगा। इस पूरे प्रोजेक्ट पर करीब 10 लाख करोड़ रुपए की लागत आएगी। गडकरी ने बताया कि प्रोजेक्ट के पहले चरण के लिए  उनके मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय से एक सिंगल रुपए की सहायता नहीं ली है। उन्होंने सारा कैपिटल मार्केट से लिया है। हम टीओटी (टोल ऑपरेटर ट्रांसफर) मॉडल बना रहे हैं। मंत्री ने  बताया कि हम प्रोजेक्ट की पूंजी के बारे में आकलन करते हैं और ओवरसीज मार्केट से फंड इकठ्ठा करते है।

भूमी अधिग्रहण बड़ी समस्या
गडकरी के मुताबिक राज्य सरकारों की तरफ से सड़क प्रोजेक्ट के लिए भूमि अधिग्रहण में आने वाली लागत को साझा करना चाहिए। उन्होंने केरल में भूमि अधिग्रहण को बड़ी  समस्या बताया, क्योंकि वहां भूमि अधिग्रहण की कीमत बहुत ज्यादा है। गडकरी ने उत्तर प्रदेश का उदाहरण देते हुए कहा कि राज्य सरकार की तरफ से भूमि अधिग्रहण की 50  प्रतिशत कीमत वहन की जाती है। इसकी वजह से प्रोजेक्ट को समय पर पूरा करने में मदद मिलती है। उन्होंने कहा कि भूमि अधिग्रहण की वजह से किसी प्रोजेक्ट में देरी नहीं हुई  है। यह उनकी सरकार के कार्यकाल की बड़ी उपलब्धि रही है। उन्होंने देरी की मुख्य वजह निर्माण संबंधी डीपीआर (डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट) को बताया। गडकरी ने बताया कि उन्होंने  डीपआर सिस्टम में ड्रोन की मदद से इनोवेशन लाने की कोशिश की है।

2017 मे मिली भारतमाला प्रोजेक्ट को मंजूरी

भारतमाला प्रोजेक्ट के पहले चरण को 2017 में मंजूरी दी गई थी। इसके साथ ही 24800 किमी नेशनल हाईवे बनाने का काम दिया गया था। इनता ही नहीं 10 हजार किमी बैलेंस रोड का काम भी नेशनल हाईवे डिवल्पमेंट प्रोग्राम के तहत दिया गया था, जिसका 8000 किमी का काम पूरा कर लिया गया है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget