सरकार यूरिया के लिए सब्सिडी दर तय करने पर कर रही है विचार

नई दिल्ली
सरकार यूरिया के लिए पोषण आधारित सब्सिडी दर तय करने पर विचार कर रही है। यह कदम उर्वरकों के संतुलित इस्तेमाल और इस उद्योग में कार्यकुशलता को बढ़ावा देने के  लिए उठाया जा रहा है। सूत्रों ने यह जानकारी दी है। सरकार ने वर्ष 2010 में पोषक तत्वों पर आधारित सब्सिडी (एनबीएस) की शुरुआत की थी। इसके तहत यूरिया को छोड़कर  सब्सिडीयुकत फास्फेट और पोटाश (पीएंडके) वाले उर्वरकों के प्रत्येक ग्रेड के लिए वार्षिक आधार पर सब्सिडी की राशि तय कर दी जाती है। यह राशि इन उर्वरकों में मौजूदा पोषण  तत्वों के आधार पर तय की जाती है। एक उच्चस्तरीय सूत्र ने बताया कि पीएंडके मामले में हमने पहले ही एनबीएस को शुरू कर दिया है, लेकिन यूरिया के मामले में इसके  क्रियान्वयन की चिंताओं को देखते हुए इस पर अब तक अमल नहीं हो पाया। अब नई सरकार इसे अमल में ला सकती हे। एक सूत्र ने बताया कि उर्वरक मंत्रालय यूरिया के लिए भी  एनबीएस दर तय करने को लेकर विचार कर रहा है। उन्होंने बताया कि इसके तौर तरीकों पर विचार विमर्श चल रहा है। उनका कहना है कि यूरिया के लिए भी एनबीएस दर तय   होने से उर्वरक उद्योग में कार्यकुशलता बढ़ाने के साथ ही यूरिया का संतुलित उपयोग भी बढ़ेगा। इसके साथ ही प्रतिस्पर्धा में भी सुधार आएगा। वर्तमान में केवल यूरिया ही एकमात्र  नियंत्रित उर्वरक है जिसे सांविधिक रूप से अधिसूचित एकसमान दर पर बेचा जाता है। इसका अधिकतम खुदरा बिक्री मूल्य 5,360 रुपए प्रति टन है। यह सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने  वाला उर्वरक है कयोंकि इस पर सबसे ज्यादा सब्सिडी दी जाती है। सूत्रों का कहना है कि कुछ आशंकाओं के चलते यूरिया के लिए एनबीएस आधारित दरें तय नहीं की गई लेकिन   अब अधिकारियों का मानना है इस समस्या को सुलझा लिया जाएगा। एक आशंका यह भी है कि पीएंडके उर्वरकों की तरह यदि यूरिया के दाम भी नियंत्रणमुक्त कर दिए जाते हैं तो   यह महंगा हो जाएगा। ऐसे मामले में सरकार का कहना है कि दाम को पूरी तरह नियंत्रणमुक्त नहीं किया जाएगा बल्कि बाजार स्थिति के मुताबिक मूल्य को एक दायरे में रखा  जाएगा। इस मूल्य दायरे को समय समय पर संशोधित किया जाता रहेगा। देश में 2018- 19 में 240 लाख टन यूरिया विनिर्माण किया गया। घरेलू मांग को पूरा करने के लिए इसके  ऊपर 69 लाख टन यूरिया का आयात भी किया गया।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget