राफेल नडाल फिर बने लाल बजरी के बादशाह

पेरिस
स्पेन के स्टार राफेल नडाल ने रविवार को पुरुष फाइनल में आस्ट्रिया के डोमिनिक थिएम पर 6-3, 5-7, 6-1, 6-1 की जीत से ऐतिहासिक 12वां रोलां गैरां खिताब और 18वीं  ग्रैंडस्लैम ट्रॉफी अपने नाम की। तैंतीस साल का यह खिलाड़ी इस तरह एक ही ग्रैंडस्लैम 12 बार जीतने वाला पहला खिलाड़ी - पुरुष या महिला वर्ग - बन गया है। उन्होंने 2018  फाइनल के दोहराव वाले मुकाबले में थिएम को पराजित किया। नडाल इस तरह रोजर फेडरर के सर्वकालिक 20 मेजर खिताब के रिकॉर्ड से महज दो ट्राफी पीछे हैं और नोवाक  जोकोविच से तीन खिताब आगे हैं, जिनकी चुनौती सेमीफाइनल में थिएम ने ही समाप्त की थी। दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी नडाल ने पेरिस में अपना रिकॉर्ड 93 जीत का कर   लिया है और उन्हें महज दो मैच में हार मिली है।
वह इससे पहले 2005, 2008, 2010 से लेकर 2014, 2017 और 2018 में चैंपियन बने थे। रविवार को मिली इस जीत से 'बिग थ्री' के ग्रैंडस्लैम में दबदबे की भी पुष्टि हो गयी,  जिन्होंने पिछले 10 खिताब आपस में जीते हैं। यह नडाल का 82वां कॅरियर खिताब भी है और यह उनकी 950वें मैच में जीत भी है। पहला सेट 53 मिनट तक चला, जिसमें काफी  तेज तर्रार शाट शामिल थे और थिएम ने पहले सर्विस तोड़कर 3-2 की बढ़त हासिल की, लेकिन 25 साल के इस खिलाड़ी की खुशी थोड़ी देर तक ही टिक सकी, क्योंकि नडाल ने छठे  गेम में सर्विस ब्रेक की और अगले तीन गेम हासिल कर इसे जीत लिया। क्ले कोर्ट पर नडाल को चार बार हराने वाले थिएम ने दूसरे सेट में लंबी रैली में शानदार बैकहैंड से 5-4 की  बढ़त बनायी हुई थी, जिसमें दोनों खिलाड़ियों ने अपनी सर्विस गेम पर पकड़ बनाये रखी थी।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget