सऊदी की राजकुमारी अमेरिका में पहली महिला राजदूत बनी

वाशिंगटन
सऊदी अरब की राजकुमारी रीमा बिंत बंदार बिन सुल्तान को अमेरिका का नया राजदूत नियुक्त किया गया है, इसी के साथ वह पहली महिला राजदूत बनीं हैं। राजकुमारी के लिए   यह एक बेहद चुनौतीपूर्ण काम होगा। 9/11 आतंकी हमले के बाद से वाशिंगटन और सऊदी अमेरिका के बीच रिश्ते अपने निम्नतर स्तर पर हैं। राजकुमारी रीमा सऊदी अरब के    प्रतिद्वंद्वी देश ईरान अमेरिका के बीच सैन्य टकराव को लेकर बढ़ रही चिंताओं के बीच वाशिंगटन पहुंच रही हैं। उनकी नियुक्ति की घोषणा इस वर्ष फरवरी में की गई थी। रीमा  सऊदी अरब की पहली महिला राजदूत बनी हैं। वह सऊदी के पूर्व राजदूत बंदार बिन सुल्तान अल सौद की बेटी हैं। रीमा प्रिंस खालिद बिन सलमान की जगह यह काम संभालेंगी।  प्रिंस खालिद, सुल्तान सलमान के बेटे हैं और एक फाइटर पायलट रह चुके हैं।

राजकुमारी के लिए चुनौतियां
सऊदी अरब के दूतावास परिसर के भीतर पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या, यमन में लंबे समय से चल रहे युद्ध व मानवीय संकट और सऊदी महिला कार्यकर्ताओं की नजरबंदी जैसे  कई मामले हैं, जिनकी वजह से अमेरिका के साथ सऊदी के संबंध बेहद कमजोर रहे हैं। अब राजकुमारी पर दोनों देशों के बीच संबंधों को फिर से बेहतर बनाने की जिम्मेदारी रहेगी।  सऊदी के प्रति दृष्टिकोण अच्छा नहीं लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिम्स में अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के प्रोफेसर फवाज ए गेर्जेस ने बताया कि वाशिंगटन में सऊदी अरब के प्रति राजनीतिक  दृष्टिकोण इन दिनों बहुत अच्छा नहीं हैं। हालांकि ट्रंप प्रशासन इसका अपवाद है। रीमा को कांग्रेस और विदेश नीति के सदस्यों को सक्रिय रूप से शामिल करना होगा और उन्हें आश्वस्त करना होगा कि सऊदी अरब उनकी चिंताओं को सुनता है। यह इतना आसान नहीं होगा।

रिश्तों में मजबूती लाएंगी
वाशिंगटन में सऊदी दूतावास के प्रवक्ता फहद नाजर ने कहा कि राजकुमारी जानती हैं कि अतीत में द्विपक्षीय संबंध खराब रहे हैं, लेकिन दोनों देशों ने हमेशा की तरह अपने  मतभेदों को दूर करने में कामयाबी हासिल की है। वह अमेरिका के साथ मजबूत साझेदारी बढ़ाने के साथ ही भविष्य में इसे और ज्यादा मजबूत बनाने के लिए वह सब करेंगी, जो वह  कर सकती हैं।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget