सोनिया चौथी बार बनीं संसदीय दल की नेता

नई दिल्ली
संसद भवन में शनिवार को कांग्रेस के 52 नवनिर्वाचित सांसदों, राज्यसभा सदस्यों और महासचिवों की बैठक में सोनिया गांधी को चौथी बार पार्टी के संसदीय दल का नेता चुना गया। सोनिया 2004 से लगातार इस पद पर हैं। सोनिया ने 12 करोड़ वोटरों का कांग्रेस पर भरोसा जताने के लिए शुक्रिया अदा किया। सोनिया ने कहा कि पार्टी मौजूदा चुनौतियों के सामने  अडिग है और दोबारा उठ खड़ी होगी। हम जनता के अधिकारों के लिए सड़क और संसद दोनों जगह लड़ेंगे। कांग्रेस संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए सोनिया ने कहा कि  यह हमारे लिए अभूतपूर्व संकट का समय है, लेकिन इसमें ही अभूतपूर्व अवसर भी निहित हैं। अब यह हमारे ऊपर निर्भर है कि हम इसे कितनी विनम्रता और आत्मविश्वास से लेते  हैं। हार से सही सबक सीखने की आवश्यकता है। देश की जनता को हमसे सम्मानपूर्वक जनादेश स्वीकार करने और खुद में सुधार की अपेक्षा है। हम जानते हैं कि हमारे सामने क्या  चुनौतियां हैं? हम वापसी करेंगे। हम अपना हौसला नहीं खोएंगे। हम सरकार को उसके वादे याद दिलाते रहेंगे।
राहुल ने कहा कि हर कांग्रेस सदस्य संविधान और बिना भेदभाव के भारत के हर नागरिक के लिए लड़ता रहेगा। बैठक में नई सरकार बनने के बाद 17 जून से शुरू हो रहे संसदीय सत्र के मुद्दों पर भी चर्चा हुई। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद 25 मई को कांग्रेस कार्यसमिति (सीडŽल्यूसी) की बैठक हुई थी। इसमें राहुल ने इस्तीफे की पेशकश कर दी  थी। हालांकि, सीडŽल्यूसी ने इसे ठुकरा दिया था। इसके बाद यह पहला मौका है, जब राहुल सार्वजनिक तौर पर किसी बैठक में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के बीच पहुंचे। हालांकि, वे 28- 29 मई को केसी वेणुगोपाल, अहमद पटेल और रणदीप सुरजेवाला के साथ चर्चा कर चुके हैं।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget