पर्यटोके लिए स्पेस स्टेशन के दरवाजे खोलेगा नासा

नई दिल्ली
 नासा ने शुक्रवार को कहा है कि स्पेस पर्यटन जैसे बिजनस वेंचर्स के लिए इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन 2020 में ओपन करने जा रहा है। ऑर्बिट रिसर्चिंग लैब में एक रात रुकने के लिए पर्यटकों  को 35 हजार डॉलर (करीब 24 लाख रुपए) चुकाने होंगे। इसके बाद से माना जा रहा है कि नासा इस लैब में अपनी गतिविधियां और प्रयोग कम करने जा रहा है। नासा के चीफ फाइनेंशल ऑफिसर जेफ ड्विट ने न्यूयॉर्क में इस बारे में जानकारी दी और नासा की भविष्य की योजनाओं के बारे में बताया। जेफ ने कहा कि नासा इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन कमर्शल मौकों के लिए खोलने जा रहा है और इस मार्केटिंग की मदद से वह संभव होगा, जो हमने आज से पहले कभी नहीं किया। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के डेप्युटी डायरे€टर रॉबिन गाटेंस ने कहा कि यह हर साल एक या दो प्राइवेट ऐस्ट्रोनॉट मिशन तक सीमित हो सकता है। इस तरह का मिशन 30 दिनों तक बढ़ाया जा सकता है।
नासा का कहना है कि इस तरह हर साल करीब एक दर्जन टूरिस्ट स्पेस स्टेशन जा  सकेंगे। नासा का कहना है किफिलहाल केवल दो प्राइवेट कंपनियां पर्यटकों को अंतरिक्ष में भेजने पर काम कर रही हैं और इसके लिए ट्रांसपोर्ट वीइकल तैयार कर रही हैं। इनमें से एलन मस्क की स्पेस ए€स का ड्रैगन कैप्सूल है और दूसरा बोइंग द्वारा तैयार किया जा रहा स्टारलाइनर विमान है। ये कंपनियां अपने €लाइंट्स को चुनकर ट्रिप पर भेज पाएंगे, जो शायद उनके लिए सबसे महंगा एडवेंचर साबित होगा। ड्विट ने बताया कि ऐसी यात्रा की राउंड ट्रिप के लिए एक टिकटपर 5.8 करोड़ डॉलर (करीब 4 अरब रुपए) का खर्च आएगा। कंपनियां इस खर्च पर टूरिस्ट्स को स्पेस स्टेशन तक तो ले जाएंगी, लेकिन वहां रहने के लिए पर्यटक होटल के खर्च की तरह रुकने का किराया भी देंगे।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget