वही करेंगे जो देशहित में होगा

नई दिल्ली
दो दिन के दौरे पर भारत आए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की। पोंपियो की जयशंकर से  मुलाकात के दौरान भारत के रूस के साथ एस-400 मिसाइल सिस्टम सौदे और अन्य रक्षा सौदों पर बातचीत हुई। इस दौरान भारत ने स्पष्ट कहा कि हम वही करेंगे, जो राष्ट्र के  हित में होगा। दोनों विदेश मंत्रियों ने बातचीत के बाद साझा प्रेस कांफ्रेंस की। इस दौरान जयशंकर से पूछा गया कि क्या अमेरिका के काट्सा कानून का असर भारत के रूस के साथ  एस-400 सौदे पर भी पड़ेगा। जयशंकर ने कहा कि हमारे कई देशों के साथ रिश्ते हैं। हमारी कई साझेदारियां हैं और उनका इतिहास है। हम वही करेंगे जो हमारे देश के हित में  होगा। इसका एक हिस्सा हर देश की स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप भी है, जिसके तहत दूसरे देशों के हितों को भी समझना और सराहा जाना चाहिए।

पोंपियो ने मोदी को जीत की बधाई दी
विदेश मंत्रालय के मुताबिक, पोंपियो ने मोदी को राष्ट्रपति ट्रंप की ओर से जीत की बधाई दी। मोदी ने पोंपियो से कहा कि भारत-अमेरिका के साथ रणनीतिक साझेदारी को और  मजबूत करना चाहता है। हम द्विपक्षीय रिश्तों के जरिए व्यापार, अर्थव्यवस्था, ऊर्जा और रक्षा मजबूत करना चाहते हैं। इस पर पोंपियो ने भरोसा दिया कि अमेरिका भी भारत के  साथ मिलकर काम करने के लिए पूरी तरह तैयार है।

मुद्दों को सुलझाने के लिए हमेशा रास्ते होते हैं
रूस के साथ एस-400 डील और व्यापारिक मुद्दों पर पोंपियो ने कहा कि कभी ऐसा कोई साझेदार नहीं मिला, जहां हमारे बीच चीजों को सुलझाने के लिए रास्ता न रहा हो। हम यह  प्रयास करेंगे कि अपने देश के लिए सुरक्षा मुहैया करा पाएं और यह भी चाहेंगे कि भारत भी ऐसा ही करने में सक्षम हो। हम दोनों मुद्दों को वास्तविक मौके के तौर पर देख रहे हैं  और मैं जानता हूं कि हम साथ काम कर सकते हैं। साथ ही रिश्तों की आधारशिला रख सकते हैं।

पोंपियो ने डोभाल से भी मुलाकात की
सूत्रों के मुताबिक, पोंपियो राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से भी मिले। दोनों के बीच आतंकवाद और राष्ट्रीय सुरक्षा सहित कई मुद्दों पर चर्चा हुई। पोंपियो ने एच1-बी वीजा,  रूस से भारत के एस-400 मिसाइल सौदे सहित दोनों देशों के बीच ट्रेड वॉर को लेकर बातचीत की।

अमेरिका भारत को नहीं होने देगा तेल की कमी
अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने बुधवार को कहा कि अमेरिकी पाबंदियों के कारण नई दिल्ली ने ईरान से तेल खरीदना बंद कर दिया है, इसलिए वॉशिंगटन भारत को तेल  की पर्यात आपूर्ति सुनिश्चित करेगा।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget