कडाई से चालु होगी आयुष्मान भारत की योजना

लखनऊ
लोकसभा चुनाव में मोदी सरकार की शानदार जीत में अहम भूमिका निभाने वाली योजनाओं में से एक आयुष्मान भारत को योगी सरकार यूपी में कड़ाई के साथ लागू कराने जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी चिकित्सालयों में आयुष्मान योजना के तहत सभी आयुष्मान कार्डधारकों के लिए अलग से एक काउंटर स्थापित करने के निर्देश दिए है।
लोक भवन में चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रस्तुतिकरण का अवलोकन करने के दौरान मुख्यमंत्री योगी ने आयुष्मान भारत योजना के तहत मरीजों को इलाज देने वाले अस्पताल को एक माह के अंदर भुगतान करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि उपचार के बाद अस्पताल को हर हाल में समयबद्धता के साथ भुगतान कर दिया जाए। उन्होंने आयुष्मान भारत योजना के तहत उपलब्ध कराए जाने वाले आरोग्य कार्डों का वितरण अभियान चलाकर सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुये कहा कि इसके लिए सभी जिलों में शिविर लगाकर जनप्रतिनिधियों से इनका वितरण कराया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि एमआरआई, कलर डॉप्लर, सीटी स्कैन इत्यादि जैसी जांचों को पीपीपी मोड के आधार पर संचालित किया जाये। इसके लिए जिलों में उक्त सुविधाएं उपलब्ध कराने वाली पैथोलॉजियों की एक सूची बना ली जाए और सरकार द्वारा निर्धारित दरों पर उनसे यह सेवायें मरीजों को मुहैया कराई जाएं। उन्होंने कहा कि इन सेवाओं को आयुष्मान भारत के  तहत भी मरीजों को उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने आयुष्मान भारत के तहत कार्यरत आयुष्मान मित्रों को इस योजना के तहत इलाज के लिए चिकित्सालय आने वाले मरीजों की सहायता करने का निर्देश दिया।
योगी ने कहा कि अभी भी बहुत सारे गरीब परिवार आयुष्मान भारत योजना से लाभान्वित होने से वंचित रह गए हैं। इसलिए ऐसे गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के तहत शामिल किया जाए। उन्होंने वनटांगिया, मुसहर और थारू जैसी जनजातियों को भी इन योजनाओं में शामिल किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रदेश के विभिन्न जनपदों में फैलने वाली बीमारियों जैसे-चिकनगुनिया, मलेरिया, डेंगू आदि की रोकथाम के लिए भी विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर (आरोग्य केंद्रों) पर योग प्रशिक्षण की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए। योगी ने 108 और 102 नंबर की एंबुलेंसों के संचालन में आने वाली दिकतों और शिकायतों पर नारजगी  जताते हुये एंबुलेंस सेवाओं का संचालन कर रही एजेंसी के खिलाफ सक्त कार्रवाई करने और लैक लिस्ट करने का निर्देश दिया। उन्होंने मरीजों की सुविधा के लिए प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों में एक-एक नोडल अधिकारी नियुक्त करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि
यह अधिकारी सुनिश्चित करेंगे कि अस्पताल में आने वाले मरीजों का पर्चा आसानी से बन सके। उन्हें स्टेचर और इलाज की सुविधा मिलने में कोई दिकत न हो। मरीज जब अस्पताल से डिस्चार्ज हो, तो उसका पेपर वर्क कंपलीट करवाना भी सुनिश्चित करें।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget